यह है दुनिया का सबसे महंगा गड्ढा, जानिए अरबों में क्यों है इसकी कीमत

0
38
Spread the love

नई दिल्ली। चौंक गए ना जनाब एक गड्ढे की कीमत अरबों मे कैसे हो सकती है पर यही सच है। दुनिया का यह सबसे कीमती गड्ढा पूर्वी सरइबेरिया में डायमंड सिटी के नाम से मशहूर मिर माइन में स्थित है। यह एक हीरे की खदान है। जी हां यह सच है। दुनिया में इसकी कीमत अरबों रुपए की है और यह दुनिया का सबसे खतरनाख गड्ढो में से एक है। इस गड्ढे की कीमत है करीब 1133 अरब रुपए।

इसे भी पढ़ें :-  ललिता यादव हत्याकांड : हत्यारा बबलू यादव को फांसी देने के लिए राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन

इसे भी पढ़ें :-  मुस्लिमों पर आजम खान का शर्मनाक बयान !

वर्ष 2004 के बाद इस खदान में अंडरग्राउंड टनल लगाए गए। इन अंडरग्राउंड टनल से वर्ष 2014 में 6 मिलियन कैरेट रफ डायमंड मिले। इस खदान से हर साल औसतन 2 लाख कैरेट के हीरे निकलते हैं। जिनकी कीमत लगभग 20 मिलियन पाउंड होती है।

इसे भी पढ़ें :-  आगर मालवा : हत्यारे ने मासूम का गला रेतकर लाश को जमीन में गाड़ दिया

इसे भी पढ़ें :-  सेना के जवान मैथ्यू को मिली सच बोलने की सजा, तीन दिनों बाद लटकता मिला शव, डायरी से सुलझेगी गुुथ्थी

इस गड्ढे के आस पास की खदानों में से विश्व के रफ डायमंड्स के 23 प्रतिशत हीरे निकलते हैं। सबसे बडे हीरों का आकार गोल्फ की बॉल के बराबर होता है, जो काफी कीमती होते हैं। इस गड्ढे की कीमत का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते है कि रूसी राष्‍ट्रपति व्‍लादमीर पूतिन भी इसके कारोबार पर नजर रखते है।

इसे भी पढ़ें :-  हैवानियतः प्राइवेट पार्ट में डाल दी मिर्ची, गर्म सलाखों से दागा पत्नी को

इसे भी पढ़ें :-  क्रिमिनल्स हों या नक्सली इनके नाम भर से कांप उठते, यह हैं IG डीसी सागर

दरअसल, यह गड्ढा रूसी कंपनी अलरोसा का स्वामित्व वाली एक खदान है। इस खदान की गहराई 1722 फिट है और इस गड्ढे का घेरा करीब साढ़े तीन किलोमीटर का है। इस खदान को इसलिए खतरनाख माना गया है क्योंकि यह आसमान में इसके उपर उड़ रहे हेलिकॉप्टर्स को अपनी तरफ खींच लेती है। इस खदान में वर्ष 2004 में ऑपरेशन रोक दिए गए थे।

कोई जवाब दें