बसपा से चुनाव लड़कर भाजपा को पछाड़ने वाले की घर में संदिग्ध हालत में शव मिलने से मची सनसनी

0
115
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

आगरा। लोहे और रीयल एस्टेट के बड़े कारोबारी के साथ वरिष्ठ भाजपा नेता का शव घर में मिलने से हड़कम्प मच गया। कारोबारी की मौत से परिवार स्तब्ध है। मौत कैसे और कब हुई इस बात की कोई जानकारी नहीं है। परिवारीजन भी उनकी मौत पर कुछ बोलने को तैयार नहीं है।

घर में मची चीखपुकार

जयपुर हाउस जगन्नाथपुरम निवासी वरिष्ठ भाजपा नेता राजेश अग्रवाल की शुक्रवार को संदिग्ध परिस्थित में मौत हो गई। बताया गया है कि राजेश अग्रवाल कैंसर से पीड़ित थे और मुंबई में उनका इलाज चल रहा था। लेकिन, डॉक्टर्स ने कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया था। शुक्रवार को दोपहर में अपने दफ्तर गए और इसके बाद घर लौट आए। कुछ ही देर बाद चीख पुकार मच गई। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक परिजन उन्हें एसएन मेडिकल कॉलेज लेकर गए जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

बसपा में जाकर सभी को चौंका दिया था

राजेश अग्रवाल का लंबा राजनीतिक करियर रहा है। फिलहाल वे भारतीय जनता पार्टी के बृज क्षेत्र के कोषाध्यक्ष थे। वे दो बार विधानसभा का चुनाव लड़ चुके थे। साल 2012 के विधानसभा चुनाव में वे बसपा में चले गए थे। उत्तर विधानसभा सीट से उन्होंने चुनाव लड़ा था। भाजपा के जगन प्रसाद गर्ग को टक्कर देकर दूसरे स्थान पर रहे थे। उन्हें 45045, 22.90 प्रतिशत वोट प्राप्त हुए थे। इसके बाद वे बसपा छोड़कर भाजपा में आ गए। लोहे और रीयल एस्टेट में उनकी रमेश चंद राजेश कुमार नाम से फर्म है। वहीं व्यापार प्रकोष्ठ के अध्यक्ष रहे, महानगर कोषाध्यक्ष, 2006 में महानगर महामंत्री रहे। 2012 में उत्तर से बसपा प्रत्याशी रहे। 2014 लोकसभा के बाद भाजपा में आए और 2017 चुनाव में कार्यालय व्यवस्था में रहे। उन्हें 2018 में बृजक्षेत्र कोषाध्यक्ष बनाया गया था।

कोई जवाब दें