महिला विज्ञान जत्थे की कार्यशाला और प्रशिक्षण, शिविर में चौथे दिन भी विभिन्न गतिविधियां जारी

0
191
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

छिन्दवाडा. विज्ञान एवं प्रौद्योगिक विभाग से संबध्द विज्ञान प्रसार एवं युवा विज्ञान परिषद म.प्र. द्वारा समाज में वैज्ञानिक सोच के विकास और जागरूकता की दृष्टि से 4 से 14 दिसंबर तक प्रतिदिन प्रात: 10:30 से शाम 4:30 बजे तक स्थानीय वंदना लॉन में आयोजित महिला विज्ञान जत्थे की कार्यशाला और प्रशिक्षण शिविर में आज चौथे दिन प्रतिभागियों को नाटक बाबाजी आला रे की रिहर्सल कराने के साथ ही वैज्ञानिक चमत्कार को बताया गया ।

उल्लेखनीय है कि इस कार्यशाला और प्रशिक्षण शिविर में वंदना शिवकर, वंदना नागवंशी, शिवांगी चौरसिया, प्राची विश्वकर्मा, मोहिनी उद्दे, रंजीता डेहरिया, सिमी विश्वकर्मा, आरती गौतम, मोनिका यादव, अंजनी शीलू, गौरांगी मिश्रा, रितु जैकब, स्वीटी डेहरिया, प्रगति गौतम, ऐनी जैकब आदि प्रतिभागी के रूप में सम्मिलित है ।

कार्यशाला एवं प्रशिक्षण की संयोजक सुश्री वंदना राजेश बेलवंशी ने बताया कि कार्यशाला में आज वरिष्ठ पत्रकार श्री गोविंद चौरसिया ने मार्गदर्शन देते हुये कहा कि जन सामन्य को पर्यावरण, पानी, स्वच्छता आदि स्थानीय समस्याओं के प्रति जागरूक करें और सौर ऊर्जा के उपयोग व महत्व को भी समझायें । उन्होंने प्रतिभागियों से प्रशिक्षण के संबंध में विभिन्न प्रश्न कर अपने अनुभव भी साझा किये । इस अवसर श्री आर.एस. शिवकर व आचार्य ओमदेव शास्त्री भी उपस्थित थे ।

कार्यशाला के अंतिम सत्र में विशेषज्ञ श्री जितेन्द्र भटनागर और श्री सुनील पहाड़िया ने कन्या भ्रूण हत्या पर आधारित नाटक तराजू और स्वास्थ्य पर आधारित नाटक की रिहर्सल कराई और मार्गदर्शन दिया । साथ ही प्रतिभागियों को ग्लोब पपेट के बारे में विस्तार से जानकारी दी जिससे प्रतिभागी इसे तैयार कर नाटकों में इसका उपयोग कर सकें ।

कोई जवाब दें