बच्ची से दुष्कर्म और हत्या करने के आरोपी को आजीवन कारावास, बच्ची की मां ने भी हत्यारे को किया था सहयोग

0
256
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

जिला ब्यूरो चीफ, जिला नरसिंहपुर // अरुण श्रीवास्तव : 91316 56179

नरसिंहपुर । विशेष न्यायाधीश आनंद कुमार तिवारी ने विशेष प्रकरण कमांक 162/2016 में आरोपी गंगाराम आ.रामहित काछी आयु 24 वर्ष निवासी ग्राम भरखेडा जिला नरसिहपुर को धारा 376ए भारतीय दण्ड विधान के आरोप में सश्रम आजीवन कारावास एंव 7500 रू. के अर्थदण्ड तथा आरोपी आरती पति मानकलाल ठाकुर निवासी भरखेडा को धारा 201 भारतीय दंड विधान के आरोप में 3 वर्ष सश्रम कारावास एंव 1 हजार रूपये के अर्थदण्ड से दण्डित किए जाने का दण्डादेश पारित किया। इस मामले में मुख्य और अफसोसजनक बात यह रही कि आरोपी महिला आरती ने अपनी बच्ची के दुष्कर्मी और हत्यारे को साक्ष्य छिपाने में मदद की। जिसके चलते उसे भी आरोपी बनाया गया और 3 वर्ष की सजा न्यायालय ने सुनाई।
इस मामले  में दिनांक 14.7. 2016 को ग्राम खामघाट के ग्राम कोटवार को  डोकरीनाला पुल के पास एक पांच छः वर्ष बच्ची की लाश पड़ी मिली थी। जिसकी सूचना उसने पुलिस थाना करेली में दर्ज करायी थी। लाश के पोस्टमार्टम के बाद पता चला कि बच्ची के साथ बलात्कार के बाद उसकी गलाघोंट कर हत्या की गयी है। विवेचना में उक्त बच्ची की शिनाख्त आरोपी आरती की पुत्री के रूप में हुई थी।
आरोपी गंगाराम के मृतिका की मां  आरती से  प्रेम संबंध होने के कारण आरती अपनी पति को छोडकर ग्राम खैरूआ में रहने लगी थी। दिनंाक 12.7.2016 को आरोपी गंगाराम ने मृतिका के साथ बलात्कार कर उसका मुंह दबाकर हत्या कर दी। दोनों आरोपीगण ने मृतिका की लाश पहले पानी की टंकी में डाल दी ओर दुर्घटना होने का ढोंग किया । बाद में मोटर साइकिल से ले जाकर लाश डोगरी पुल के ऊपर से फेंक दी। विवेचना के दौरान फोरेंसिक जांच में मृतिका के पहने हुए स्लेक्स पर पाये गए वीर्य के धब्बों की डीएनए  प्रोफाइल का आरोपी के प्रोफाइल से मिलान पाया गया।
प्रार्थी की रिपोर्ट पर आरोपीगण के विरूद्व पुलिस थाना करेली में अपराध क्र. 552/2016 का पंजीबद्व हुआ। अभियोजन की और से पैरवी करते हुए चित्रांश विष्णु श्रीवास्तव ने लोक अभियोजक ने न्यायालय के समक्ष 17 अभियोजन साक्षियों का परीक्षण कराया एंव तर्क प्रस्तुत किये। प्रकरण में ठाकुर सूर्यप्रताप सिंह विशेष लोक अभियोजक एंव अधिवक्ता सीपी पटैल ने अभियोजन का सहयोग किया।

कोई जवाब दें