माल्या का आरोप : मामले के निपटारे के लिए वित्त मंत्री से हुई थी मुलाकात, जेटली ने किया खारिज

0
525
Spread the love

TOC NEWS @ http://tocnews.org/

नयी दिल्ली/ लंदन : शराब कारोबारी विजय माल्या ने बुधवार को कहा कि वह भारत से रवाना होने से पहले वित्त मंत्री से मिला था. लंदन में वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश होने के लिए पहुंचे माल्या ने संवाददाताओं को बताया कि उसने मंत्री से मुलाकात की थी और बैंकों के साथ मामले का निपटारा करने की पेशकश की थी. 

उधर, वित्त मंत्री अरुण जेटली ने विजय माल्या के दावे को झूठा करार देते हुए कहा कि एक सांसद होने के नाते विजय माल्या से मुलाकात हुई होगी, लेकिन उसका यह दावा कि उसने मुझसे मिलकर मामले के निपटारे की किसी तरह की पेशकश की थी, यह विल्कुल झूठा है. विजय माल्या के भारत छोड़ने से पहले वित्त मंत्री से मिलने के दावे पर सवाल उठाते हुए कांग्रेस ने कहा कि सरकार को बताना होगा कि विजय माल्या को भारत से जाने कैसे दिया गया. मोदी सरकार को वित्त मंत्री जेटली से माल्या की मुलाकातों का ब्योरा देना होगा.

शराब कारोबारी और भारतीय बैंकों के करीब नौ हज़ार करोड़ रुपये के बकाएदार विजय माल्या ने एक बड़ा दावा किया है. उन्होंने कहा है कि 2016 में भारत छोड़ने से पहले वो वित्त मंत्री से मिले थे. माल्या लंदन के एक कोर्ट में प्रत्यर्पण मामले में सुनवाई के लिए आए थे. भारतीय एजेंसियों ने माल्या के प्रत्यर्पण की मांग की है.वेस्टमिंस्टर कोर्ट परिसर में माल्या ने एक सवाल के जवाब में संवाददाताओं से कहा, “मैं भारत से जेनेवा एक पहले से तय मीटिंग के लिए गया था. जाने से पहले मैंने वित्त मंत्री से मुलाक़ात की थी.”

वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत में माल्या ने मंत्री का नाम लिये बगैर कहा, ‘मैं भारत से रवाना हुआ क्योंकि मेरी जिनिवा में एक मुलाकात का कार्यक्रम था. रवाना होने से पहले मैं वित्त मंत्री से मिला था और निपटारे (बैंकों के साथ मुद्दे) की पेशकश की थी.’ गौरतलब है कि माल्या जब भारत से भागा था, उस वक्त अरुण जेटली वित्त मंत्री थे. कोर्ट में सुनवाई के दौरान भारत के अधिकारियों ने मुंबई की आर्थर रोड जेल में माल्या को रखने के लिए तैयार सेल का विडियो पेश किया.

कोर्ट में सुनवाई के बाद पत्रकारों ने जब वित्त मंत्री से मुलाकात को लेकर सवाल पूछा, तो माल्या ने कहा कि वह इस बारे में विस्तार से जानकारी नहीं दे सकता. माल्या ने कहा कि वह कोर्ट में दिखाये गये जेल के विडियो को देखकर प्रभावित है. माल्या ने कहा कि अपने बकाये को सेटल करने के लिए बैंकों को कई बार पत्र लिखे, लेकिन बैंकों ने उसके पत्रों पर सवाल खड़े किये.

माल्या ने कहा कि उस पर जो आरोप लगाये गये हैं, उनसे वह सहमत नहीं हैं. इस बारे में कोर्ट ही अंतिम फैसला लेगी. बता दें कि माल्या ने कहा था कि भारतीय जेलों की हालत बेहद खराब है, इसलिए उन्हें भारत को न सौंपा जाये. प्रत्यर्पण से बचने के लिए माल्या की इस दलील के बाद वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत ने भारतीय अधिकारियों से जेल का विडियो पेश करने को कहा था.

कोई जवाब दें