शटल गाड़ी चलाओ या ₹300000 वेतन भत्ता सुख-सुविधाएं छोड़ो यह मांग की नरसिंहपुर जागरुकता मंच ने

0
39
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.com

ब्यूरो चीफ गाडरवाराजिला नरसिंहपुर // अरुण श्रीवास्तव : 91316 56179

गाडरवारा पिछले वर्षों से नरसिंहपुर जिले की जनता जो गाड़ी वर्षों से इटारसी से सतना सटल नाम से चलाई जा रही थी वह गाड़ी 2014 में केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद बंद कर दी गई है यह गाड़ी के बंद होने से इटारसी से सतना तक गरीब जनता का आना जाना मुश्किल हो गया है फास्ट पैसेंजर निकल जाने के बाद जो गाड़ी आती हैं वह फास्ट है जिसके कारण गरीबों को अधिक किराया देकर अपनी यात्रा करना पड़ती है शटल गाड़ी चलाने की मांग नरसिंहपुर जिले की जनता लगातार जिले के जनप्रतिनिधियों से करती आ रही है

लेकिन उन्होंने कभी भी इस समस्या को अपनी सक्रियता से लोकसभा में नहीं उठाया या फिर केंद्र सरकार नरसिंहपुर जिले के जनप्रतिनिधियों की बात नहीं सुनती जबकि नरसिंहपुर जिला एक ऐसा जिला है जिसका नेतृत्व नरसिंहपुर जिले में 5 सांसद कर रहे हैं जिनमें चार भाजापा एवं एक कांग्रेस कई सांसद हैं कांग्रेस के सांसद को अगर मान लिया जाए कि वह विपक्ष में है लेकिन सत्ता पक्ष के चार सांसद हैं

फिर भी नरसिंहपुर जिले की एकमात्र मांग जनता की शक्ल गाड़ी चलाना स्वीकृत नहीं करा पा रहे हैं इससे बड़ा दुर्भाग्य नरसिंहपुर जिले का हो ही नहीं सकता आज जो जनप्रतिनिधि लोकसभा में पहुंचे हैं वह जनता की ताकत से पहुंचे हैं जनता ने उन्हें भेजा है इसलिए उनको सरकार की सारी सुविधाएं प्राप्त हो रही हैं आज वही जनता जनप्रतिनिधियों से यह मांग कर रही है इसके बाद भी इस मांग को नहीं सुनना समझ में नहीं आता केंद्र सरकार को इस और पहल करना चाहिए विज्ञापनों में तो विकास के बड़े बड़े दावे किए जा रहे हैं

लेकिन एक छोटी सी जनता की मांग स्वीकृत नहीं करना यह जनता के साथ अन्याय है जब केंद्र में डॉक्टर मनमोहन सिंह की सरकार थी उस समय मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय शिवराज जी चौहान जब चाहे जब अनशन पर बैठ जाते थे और कहते थे कि केंद्र सरकार मध्य प्रदेश के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है लेकिन आज तो ग्राम पंचायत से लेकर केंद्र सरकार तक भाजापा की ही सरकार है लेकिन एक शटल गाड़ी नहीं चलना यह कैसा विकास है

नरसिंहपुर जिले को पूर्व केंद्रीय मंत्री माननीय सुरेश पचौरी ने इस क्षेत्र के सांसद ना होते हुए भी इस जिले को इतनी सौगातें दी है कि उनका एहसान चुकाना क्षेत्र की जनता का कर्तव्य बनता है लेकिन क्षेत्र की जनता ने जिन को अपने विश्वास का मत देकर उच्च पदों पर भेजा वह आज जनता की बात नहीं सुन रहे हैं जनता बार-बार यह मांग कर रही है कि इटारसी से सतना शटल गाड़ी को पुनः चालू किया जावे

कोई जवाब दें