आशिक के साथ रंगरलियां मनाते पति ने पकड़ा, कमरे की खुदाई के बाद उड़े सबके होश

0
786
Spread the love

बाराबंकीः उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में अवैध संबंधों में रोड़ा बन रहे पति को पत्नी ने अपने आशिक के साथ मिलकर मौत के घाट उतार दिया। दोनों ने उसकी लाश घर में ही गड्ढा खोद कर दफना दी। वहीं ननिहाल से मृतक का बड़ा जब घर आया तो घर में जमीन अंदर धसी हुई देखकर उसे किसी अनहोनी की आशंका हुई। वहीं गड्ढा खोदने पर सारा मामला खुल के सामने आ गया।

जानिए पूरा मामला

मामला रामनगर इलाके के अमौली कीरतपुर गांव का है। यहां 7 महीने पूर्व अनिरुद्ध गोस्वामी घर से लापता हो गया। उसे काफी ढूंढ गया, लेकिन वह नहीं मिला। वहीं काफी समय बाद उसका बेटा घर आया तो घर में जमीन धंसी देखकर उसे शक हुआ। जिसके बाद उसने इसकी सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने खुदाई की तो जमीन के अंदर लाश मिली। जो काफी सड़ चुकी थी। वह जमीन के करीब 5 फीट नीचे दबी हुई थी।

घर में खुदाई के दौरान मिली लाश

बता दें कि 7 महीने पहले जब अनिरुद्ध अचानक लापता हुआ तो उसकी पत्नी रीता ने गांववालों को ये बताया था कि अनिरुद्ध उसे मारपीट कर और उसके सारे जेवर छीन कर चंडीगढ़ चला गया है। रीता की इस कहानी पर अनिरुद्ध के चारों बच्चों समेत गांव के लोगों ने भरोसा भी कर लिया था, लेकिन अनिरुद्ध के लापता होने के 3 महीने बाद अचानक रीता भी लापता हो गई थी। घर के कमरे में दबाया गया अनिरुद्ध का कंकाल मिलने के बाद पुलिस के शक की सुई सबसे पहले रीता की तरफ ही घूम रही थी, क्योंकि अनिरुद्ध के लापता होने के बाद रीता भी गायब हो गई थी।

पत्नी के थे गैर के साथ अवैध संबंध

शक के आधार पर जब पुलिस ने रीता को तलाश कर सख्ती से पूछताछ की तो रीता टूट गई और उसने अपने जुर्म का इकबाल कर लिया। रीता ने बताया कि गांव में रहने वाले अजय से ही उसके अवैध संबंध बन गए थे, लेकिन एक दिन जब रीता अपने ही घर मे अजय के साथ रंगरलियां मनाते रंगे हाथों पकड़ लिया था और अनिरुद्ध ने रीता के साथ मारपीट करते हुए उसे अजय से दूर रहने की नसीहत भी दी थी। इसके बाद रीता व उसके प्रेमी ने अनिरुद्ध को रास्ते से हटाना का फैसला कर लिया।

प्रेमी के साथ मिलकर पति को सुलाया मौत की नींद

रीता के प्रेमी अजय ने इस खूनी वारदात में अपने चाचा तेजप्रताप को भी शामिल कर लिया और फिर प्लान के मुताबिक रात के सन्नाटे में दोनों ने अनिरुद्ध के घर पहुंच गए जहां रीता पहले से ही उनका इंतजार कर रही थी। इसके बाद रीता घर के दरवाजे पर रखवाली करने लगी और अजय और तेजप्रताप घर में दाखिल होकर उस कमरे में पहुंचे जहां आने वाले खतरे से बेखबर अनिरुद्ध चैन की नींद सो रहा था। दोनों ने रस्सी से गला कस कर अनिरुद्ध को हमेशा के लिए मौत की नींद सुला दिया। फिर कमरे में ही गड्ढा खोदकर उसकी लाश को दफन करने के बाद अजय और तेजप्रताप मौके से निकल लिए।

आरोपियों ने कबुला जुर्म

वहीं अगले दिन रीता ने गांव में घूम घूम कर ये कहानी सुनानी शुरू कर दी कि उसके साथ मारपीट और उसके जेवर छीन कर अनिरूद्ध चंडीगढ़ चला गया। लेकिन कहा जाता है कि अपराधी चाहे कितना भी होशियार क्यों न हो जुर्म के निशान छोड़ ही जाता है। इस तरह रीता व उसके प्रेमी का भी प्रर्दाफाश हो गया। पुलिस ने आरोपी पत्नी, उसके प्रेमी अजय और उसके चाचा तेजप्रताप को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

कोई जवाब दें