क्यों किया ABP के तीन दिग्गजों को बाहर, लोकसभा में गरमाया माहौल

0
605
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

दुनिया भर में सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश भारत में इन दिनों क्या चल रहा है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है। पिछले दिनों देश की एक बड़ी मीडिया हाउस ने अपने कुछ बड़े पत्रकारों को बाहर का रास्ता दिखा दिया। अब चैनल ने अपने वरिष्ठ पत्रकारों को क्यों हटाया इस संबंध में आधिकारिक जानकारी नहीं है।

लेकिन चैनल से पत्रकारों को हटाए जाने का यह मामला शुक्रवार को देश की संसद में भी उठा। कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की बात करते हुए शून्यकाल के दौरान संसद सदस्यों के बीच इस मसले को रखा। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ समय से मीडिया पर पाबंदी लगाई जा रही है।

कांग्रेस नेता के अनुसार, उन्होंने साफ तौर पर कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ‘मन की बात’ में किए गए दावे की ‘रियलिटी चेक’ करने के लिए छत्तीसगढ़ के एक गांव में संवाददाता भेजने के बाद एक निजी चैनल पर इस कदर दबाव बनाया गया कि उसे अपने एक वरिष्ठ पत्रकार और दो एंकरों को निकालना पड़ा।

कांग्रेस नेता ने कहा कि, ‘रियलिटी चेक’ में दावा गलत साबित हुआ था। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि, चैनलों और मीडिया को दबाने का प्रयास किया जा रहा है जो अच्छी बात नहीं है। हालांकि विपक्ष के इन आरोपों को खारिज करते हुए सरकार की ओर से सूचना एवं प्रसारण मंत्री राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि ये आरोप गलत हैं।

सरकार के मंत्री ने कहा कि, चैनल की पहली खबर गलत निकलने के बाद भी सरकार ने उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। उन्होंने कहा कि जब विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं होता तो वे हर बात के लिए सरकार को ही जिम्मेदार ठहराते हैं।

कोई जवाब दें