रेप पीड़िता ने जुड़वा बच्चों को जन्म दिया, आरोपी को जेल भेजा

0
325
Spread the love

 

पुलिस ने दिखायी सम्वेदनशीलता और आरोपी के विरुद्ध सख्ती

नाबालिग पीडिता को तत्काल इलाज के लिए भेजा

जबलपुर। हुआ यूँ कि दिनांक 07-06-18 को खटिया थाना में अपनी बूढ़ी माँ के साथ एक नाबालिग बीमार लड़की गर्भवती हालत में पहुँची ..जो कुछ बता ही नहीं पा रही थी…वही थाना परिसर में ही बेसुध होने लगी..लड़की की बिगड़ती हालत देखकर खटिया थाना प्रभारी सतीश पटेल ने पुलिस अधीक्षक मंडला सॆ मार्गदर्शन लेकर तुरंत सम्वेदनशीलता का परिचय देते हुए थाने के शासकीय वाहन सॆ ही नाबालिग गर्भवती पीडिता को तत्काल इलाज आवश्यक होने सॆ मोचा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र ले गये..जहाँ सॆ उसे जिला चिकित्सालय मंडला रेफर कर दिया गया.

मंडला जिला अस्पताल में पीडिता को होश आने पर तुरंत भा.द.वि. की धारा 376 (1)376(2) तथा 5 (थ ) , 6 पाक्सो एक्ट के तहत रिपोर्ट दर्ज कर नाबालिग के साथ बलात्कार करने वाले आरोपी राजेंद्र मसराम पिता कमल सिंह नि राता चौकी टाटरि की सरगर्मी सॆ तलाश शुरू कर दी..तभी मुखबिर द्वारा सूचना मिली कि सकूनत सॆ फरार आरोपी राजेंद्र पुलिस सॆ बचते बचते ग्राम छीन्दी पुलिस चौकी अंजनिया में छुपा है तुरंत मंडला पुलिस अधीक्षक , अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एवं एस डी ओ पी नैनपुर के निर्देशन में..

थाना प्रभारी खटिया सतीश पटेल , सउनि कुंवर सिंह बिसेन, प्र.आर रूपराम रघुवंशी, सुशील डेहरिया ,आर. राजेंद्र , देवेंद्र चालक आर भागचंद की टीम ने आरोपी का लगातार पीछा करते हुए दिनांक 8-6-18 को आधी रात को ग्राम छिंदी टोला पुलिस चौकी अंजनिया में दबीश देकर आरोपी को धर दबोचा..जिसे न्यायालय के समक्ष थाना प्रभारी द्वारा पेश किया गया जहाँ सॆ उसे जेल की सलाखों के पीछे भेज दिया गया है..इधर पीडिता को जबलपुर मेडिकल कॉलेज रेफर करने पर पुलिस की मदद सॆ उसे जबलपुर भेजा गया जहाँ पीडिता ने दो जुड़वा बच्चों को जन्म दिया..माँ व दोनों जुड़वा बच्चे अब स्वस्थ हैं.

खटिया पुलिस द्वारा सम्वेदनशीलतापूर्ण तरीके सॆ पीडिता को स्वयं की गाड़ी सॆ प्रा. स्वास्थ केन्द्र मोचा ले जाकर इलाज कराना फिर उसे जिला अस्पताल मंडला और फिर जबलपुर भेजने में मदद करना साथ ही इसके बाद उतनी तत्परतापूर्वक कार्यवाही करते हुए आरोपी का लगातार पीछा करके उसे पकड़कर जेल भेजने सॆ गरीब पीडिता एवं उसके परिजन बहुत खुश हैं । निश्चित ही ऐसी कार्यवाहियों सॆ समाज में पुलिस के प्रति सकारात्मक संदेश जाता है..वहीं अपराधियों में भय व्याप्त होता है..बहरहाल पुलिस बधाई की पात्र है

कोई जवाब दें