संघ कार्यक्रम से जुड़ी प्रणब की फ़र्ज़ी तस्वीरें वायरल, शर्मिष्ठा ने कहा- जिसका डर था, वही हुआ

0
221
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

संघ के कार्यक्रम में शामिल पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की तस्वीरें जिसमें वह सीधे खड़े थे (बाएं), लेकिन तस्वीर से छेड़छाड़ कर ऐसी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल की गईं जिसमें वह संघ कार्यकर्ताओं की शैली में सीने से हाथ लगाए हुए हैं. (फोटो साभार: रॉयटर्स/ट्विटर)

नागपुर स्थित संघ मुख्यालय के कार्यक्रम में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के शामिल होने के कुछ ही देर बाद सोशल मीडिया पर वायरल हुईं फ़र्ज़ी तस्वीरें. संघ ने फ़र्ज़ी तस्वीरों से किनारा किया.

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की पुत्री एवं कांग्रेस नेता शमिष्ठा मुखर्जी ने कहा कि जिस बात का उन्हें डर था और अपने पिता को जिस बारे में उन्होंने आगाह किया था, वही हुआ.

गुरुवार रात उन्होंने आरोप लगाया कि जिसका डर था, भाजपा/आरएसएस के ‘डर्टी ट्रिक्स डिपार्टमेंट’ ने वही किया.

शर्मिष्ठा ने सात जून को आरएसएस के कार्यक्रम से जुड़ी मुखर्जी के तस्वीरों के साथ छेड़छाड़ करके सोशल मीडिया में शेयर किए जाने पर कहा, ‘देखिए, मुझे इसी का डर था और इसके बारे में मैंने अपने पिता को आगाह किया था. कुछ घंटे भी नहीं बीते कि भाजपा एवं आरएसएस का डर्टी ट्रिक्स विभाग अपने काम में जुट गया.’

नागपुर में संघ मुख्यालय पर आयोजित कार्यक्रम में संघ प्रमुख मोहन भागवत के साथ पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी. (फोटो: रॉयटर्स)

उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर छेड़छाड़ की गई तस्वीरों में ऐसा नज़र आ रहा है कि पूर्व राष्ट्रपति संघ नेताओं और कार्यकर्ताओं की तरह अभिवादन कर रहे हैं.

शर्मिष्ठा मुखर्जी ने उनके आरएसएस के कार्यक्रम में जाने का विरोध किया था और छह जून को ट्विटर पर अपने पोस्ट के ज़रिये उन्होंने अपनी नाखुशी भी ज़ाहिर की थी.

 

बहरहाल संघ ने फ़र्ज़ी तस्वीरों से किनारा करते हुए कहा है, ‘कुछ विभाजनकारी राजनीतिक ताक़ते पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की छेड़छाड़ की गईं तस्वीरों को सोशल मीडिया पर पोस्ट कर रही हैं. ये कुंठित ताक़तें आरएसएस को बदनाम करने के लिए इस तरह के गंदी चालें चल रही हैं.’

मालूम हो कि प्रणब मुखर्जी के नागपुर स्थित संघ मुख्यालय में भाषण देने के कुछ देर बाद ही सोशल मीडिया पर कार्यक्रम की छेड़छाड़ की तस्वीरें वायरल हो गईं. छेड़छाड़ की गई एक तस्वीर में प्रणब संघ कार्यकर्ताओं की शैली में सीने पर एक हाथ रखे हुए नज़र आ रहे हैं, जबकि वह सीधे खड़े हुए थे, उन्होंने हाथ ऊपर उठाया ही नहीं था.

कोई जवाब दें