एसटी-एससी वर्ग की योजनाओं के लिये “हितग्राही प्रोफाइल पंजीकरण” व्यवस्था शुरू

0
166
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

भोपाल : जनजातीय कार्य एवं अनुसूचित जाति कल्याण राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने जनजातीय कार्य और अनुसूचित जाति कल्याण विभाग की विभिन्न योजनाओं का लाभ उठाने के लिये नये साफ्टवेयर के तहत ऑनलाइन ‘हितग्राही प्रोफाइल पंजीकरण’ व्यवस्था का शुभारंभ मंत्रालय स्थित अपने कक्ष से किया। इस मौके पर जनजातीय कार्य आयुक्त श्रीमती दीपाली रस्तोगी, सचिव श्री राजेश मिश्रा, अनुसूचित जाति कल्याण आयुक्त श्री आनंद शर्मा और अपर संचालक श्री विक्रमादित्य सिंह उपस्थित थे।

श्री आर्य ने http://mpsdc.gov.in/tribal_reg पर ‘हितग्राही प्रोफाइल पंजीकरण’ में आधार नम्बर, डिजिटल जाति प्रमाण-पत्र और समग्र आईडी के जरिये पंजीयन कर व्यवस्था की शुरूआत की। मोबाइल पर एसएमएस के जरिये श्री आर्य के पंजीयन की जानकारी प्राप्त हुई। इस प्रकार भोपाल से इस व्यवस्था का पहला रजिस्ट्रेशन शुरू हुआ। व्यवस्था में लगभग 70 योजनाओं को ऑनलाइन और कम्प्यूटरीकृत किया गया है। व्यवस्था के लिये लगभग 35 करोड़ रुपये स्वीकृत किये गये हैं। इसके जरिये विभागीय सभी कार्य-प्रणालियों का अध्ययन, सुधार और सरलीकरण किया जा रहा है। इससे अब हितग्राही को ऑफिस के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगें। आवेदक विभागीय वेबसाइट और इन्टरनेट कियोस्क से योजनाओं का लाभ ले सकेगा।

राज्य मंत्री श्री आर्य ने अनुसूचित जाति-जनजाति के आवेदकों से अपील की है कि वे शासन की योजनाओं का लाभ लेने के लिये इस व्यवस्था में अपना पंजीयन शीघ्र और आवश्यक रूप से करवायें। यह पंजीयन नि:शुल्क और सरलता से किया जा सकता है। पंजीयन से हितग्राही की पहचान, जाति, आय और मूल-निवास तथा शैक्षणिक विवरण स्वयंमेव विभाग को ज्ञात हो जाता है। पंजीयन मात्र से ही अनेक योजनाओं का लाभ हितग्राहियों को मिल सकेगा। प्रोफाइल पंजीकरण का पॉयलट प्रोजेक्ट बालाघाट में 10 तारीख से शुरू किया गया है, जिसमें अभी तक 470 पंजीयन किये जा चुके हैं। पंजीयन में मात्र 3 से 4 मिनिट का समय लगता है। इस सॉफ्टवेयर का उद्देश्य प्रदेश के जनजातीय और अनुसूचित जाति वर्ग के हितग्राहियों को सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ सरलता और पारदर्शिता से दिलाना सुनिश्चित करवाना है।

बताया गया कि इसके अलावा कुछ अन्य योजनाएँ हैं, जिनमें पंजीयन के बाद हितग्राही को पृथक से कियोस्क के माध्यम से ही आवेदन करना होगा। इसमें विभाग के किसी होस्टल में प्रवेश लेने के लिये पंजीयन के बाद हॉस्टल मॉड्यूल के अन्दर जाकर अपना यूनिक आईडी अपडेट कर प्रदेश के सभी हॉस्टल में रिक्त सीट का विवरण प्राप्त किया जा सकता है। इसके बाद आवेदक ऑनलाइन ही किसी भी हॉस्टल में प्रवेश के लिये आवेदन कर सकता है।

विभागीय की अन्य योजनाएँ ; प्रतिभा योजना, यूपीएससी कोचिंग, सिविल सेवा प्रोत्साहन, आकांक्षा, साइकिल प्रदाय योजना इत्यादि के लिये भी अलग-अलग मॉड्यूल बनाये जा रहे हैं। इस सॉफ्टवेयर में विभाग द्वारा अन्य अनेक डेटाबेस सर्वर का इन्टीग्रेशन किया गया है। इन सर्वर में उपलब्ध जानकारी अपने आप विभाग के डाटा में प्राप्त हो जाती है। यूआईडीएआई, एनपीसीआई, ई-डिस्ट्रिक्ट एवं समग्र सर्वर के साथ इन्ट्रीग्रेशन किया जा चुका है। अन्य योजनाओं की आवश्यकतानुसार सॉफ्टवेयर को कोषालय, माध्यमिक शिक्षा मंडल, सीसीटीएनएस इत्यादि सर्वर के साथ इन्ट्रीगेट करने की कार्यवाही की जा रही है।

कोई जवाब दें