Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

गाजासिटी: यरुशलम में के विवादास्पद उद्घाटन के विरुद्ध सोमवार(14 मई) को गाजा सीमा के पास हजारों की संख्या में के लिए पहुंचे और इजराइली सैन्यबलों के साथ उनकी हिंसक झड़प में 37 लोग मारे गये.

मृतकों की इतनी बड़ी संख्या के बाद सोमवार(14 मई) का दिन 2014 गाजा में स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि इन संघर्षों में 900 से अधिक फलस्तीनी घायल हो गये. फिलिस्तीन जर्नलिस्ट्स सिंडीकेट ने कहा कि उनमें आठ पत्रकार भी हैं. इजराइली सेना ने कहा कि 35,000 से अधिक लोग प्रदर्शन और झड़प में शामिल थे.

फिलिस्तीनी सरकार ने इजराइल पर भयावह नरसंहार चलाने का आरोप लगाया
उसने गाजा के इस्लामिक शासक हमास पर ‘जन समुदाय की आड़ में आतंकवादी अभियान’ की अगुवाई करने का आरोप लगाया. गाजा तट पर काबिज फिलिस्तीनी प्राधिकरण सरकार ने इजराइल पर भयावह नरसंहार चलाने का आरोप लगाया. फलस्तीनियों ने पथराव किया, टायरों में आग लगाकर उसे बाड़ की तरफ लुढका दिया और बाड़ को नुकसान पहुंचाने के लिए उसकी ओर बढ़ने की कोशिश की.

दूसरी तरफ इजराइली सैनिकों ने मोर्चा संभाल रखा था. सेना ने कहा कि उसने विस्फोटक उपकरण लगाने की कोशिश में जुटे तीन फिलिस्तीनियों को मार डाला. विरोध के लिए हजारों लोग सीमा पर पहुंचे थे. इस बीच कुछ लोग पथराव करते हुए बाड़ के समीप पहुंच गये और वे उसे पार करने की कोशिश करने लगे. उस पर इजराइली सुरक्षाकर्मियों ने मोर्चा संभाल रखा था.

यह विरोध इजराइल में अमेरिकी दूतावास तेल अवीव से विवादास्प द शहर यरुशलम में स्थानांतरित करने के विरोध में था. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने छह दिसंबर को इस विवादास्पद शहर को इजराइल की राजधानी के रुप में मान्यता दी थी.

कोई जवाब दें