Toc News

*आदिबासी किसान की मदद करने मैदान में उतरे युवराज अभिजीत शाह*

*सिराली* / आजादी के बाद  पहली वार बनी सड़क में भ्रस्टाचार का बोलबाला ठेकेदार ने अपने निजी स्वार्थ के चलते गरीब आदिबासी के खेत से निकाला रास्ता पीड़ित आदिबासी ने किया विरोध तो मिश्रा बन्धु के गुर्गे ने उक्त गरीब किसान को उठाकर ले गए और ऑफिस में बंद कर दी जान से मारने की धमकी पीड़ित किसान मानक लाल , युवराज अभिजीत शाह के साथ पहुचा था सिराली थाने घटना के 8 दिन बाद भी नही हुई कार्रवाई।

*क्या है पूरा मामला*

जानकारी के अनुसार वनांचल के ग्राम पदालदा से झिरपी सावरी मार्ग पर प्रधाममंत्री ग्राम सड़क योजना अंतर्गत लगभग सवा 4 सो करोड़ रूपये की लागत से बन रहा मार्ग पर नियमो को ताक में रखते हुए मनमर्जी से विना सीमांकन के ही ठेकेदार सड़क निर्माण कार्य बना रहा है। इतना ही नही उक्त ठेकेदार ने अपने निजी स्वार्थ के चलते झिरपी गॉव के पास सयानी नदी पर बन रहे पुल पर एक छोर पर एक किसान के खेत को खोद डाला। जब गरीब आदिबासी ने विरोध किया तो 13 नववर को किसान मानकलाल पिता सुवेदार जाति गोड निबासी झिरपी को मिश्रा बन्धु के मैंनेजर प्रवीण तिवारी के इशारे पर उसके गुर्गे ने स्थानीय बिद्या बिहार कालोनी से दबंगाई से उठाकर उसके ऑफिस लेकर गया कमरे में बंद कर मानसिक रूप से प्रताड़ित कर जान से मारने की धमकी दी। पीड़ित ने थाने में दिए हुए आवेदन में   कहा कि तिवारी ठेकेदार ने धमकी देते हुए कहा कि 15 नववर को तैयार रहना सड़क बनने दे, अगर सड़क निर्माण में आड़े आया तो तुझे जेल भिजवा दूँगा। जिसकी शिकायत पीड़ित किसान ने 14 नवंबर को युवराज अभिजीत शाह के साथ सिराली थाने शिकायत करने पहुचे। जहाँ पीड़ित के साथ हुई घटना के ध्यान में रखते हुए युवराज अभिजीत शाह ने ठेकेदार के खिलाफ एफ आई आर दर्ज कराने के लिये अड़ गए काफी देर बाद जहाँ पुलिस ने भी हिला हवाला देते हुए सरकारी काम बताकर आवेदन लेकर ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई का आश्वाशन देकर रवाना कर दिया।

पीड़ित आदिबासी मानक लाल ने बताया कि मैने पूर्व में तीन माह पूर्व भी प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के महाप्रबन्धक को एवं जिला कलेक्टर को भी शिकायत की थी। लेकिन कोई कार्रवाई नही की पीड़ित ने बताया कि 3 एकड़ भूमि है जिसपर मेहनत मजदूरी कर अपना परिवार चलाता हु । लेकिन मुझे मेरी ही भूमि से वेदखल किया जा रहा है। ठेकेदार  तिवारी मुझे बार बार धमकी दे रहा इतना ही नही मेरे खेत अवैध तरीके से लगभग सो गाड़ी मिट्टी बजरी निकाल कर मेरी भूमि को 4 मीटर गहरा तालाब बना दिया। जिसमें लम्बाई 15 मीटर एवं चौड़ाई 14 मीटर है। न्याय के लिए सिराली थाने गया लेकिन वहाँ भी मुझे न्याय नही मिला।

*युवराज अभिजीत शाह पहुचे पीड़ित आदिबासी किसान के खेत में*

बुधवार शाम 5 बजे युवराज अभिजीत शाह ग्राम झिरपी पहुचे जहाँ पुल का निर्माण कार्य चल रहा था। निर्माण कार्य पर उपयंत्री के समक्ष कंक्रीट मिक्स का सेंपल लिया जिसको लेब में टेस्ट के लिए देगे। मौके पर उपयंत्री कादिर सिद्दीकी से चर्चा करते हुए सड़क के सीमांकन सबधी चर्चा की जहाँ उपयंत्री का कहना है। कि यहाँ जितने भी अवैध कार्य हुए है उसकी मुझे जानकारी नही है। जबकि नियमानुसार विना इंजीनियर के ले आउट के कोई भी निर्माण कार्य नही होता यहाँ स्पस्ट दिख रहा है कि झिरपी तरफ के अवेटमेंट के लिए अवैध खनन हुआ है जिसमे से लगभग 100 गाड़ी मिटी बजरी का परिवहन हुआ है। जो की ठेकेदार की मिलभगत के संभव नही। ज्ञात हो की पूर्व में भी कई जगह उक्त ठेकेदार द्वारा भोले भाले आदिवासियों को डरा धमका कर अवैध उत्खनन किया गया जिसके लिए मजबूर आदिबासी किसान मकड़ाई युवराज अभिजीत शाह के पास आ रहे है।

कोई जवाब दें