खनन माफिया ने पत्रकार को ट्रैक्टर से कुचल कर मार डाला

0
109
Spread the love

पत्रकार मिंटू मिश्रा की शाम होते ही भरे चौराहे पर टैक्टर टाली से कुचल दिया के लिए चित्र परिणाम

TOC NEWS

खनन माफिया के शिकार अमर उजाला के पत्रकार मिंटू मिश्रा

एक और कलम के सिपाही की निर्मम हत्या कर दी गई. खनन माफिया ने बेहजम (लखीमपुर खीरी) के अमर उजाला के पत्रकार मिंटू मिश्रा की शाम होते ही भरे चौराहे पर टैक्टर टाली से कुचल दिया. इससे उनकी मौके पर ही मौत हो गयी. दुर्भाग्यपूर्ण यह है कि अखबारों ने पत्रकार की हत्या को दुर्घटना में मौत बताकर छापा. इससे साथी पत्रकारों में आक्रोश है. पुलिस ने भी दुर्घटना का मुकदमा दर्ज किया है. हत्या के दो घंटे बाद मौके पर पहुंची थी पुलिस. आक्रोशित लोगों ने लखीमपुर मैगल गंज मार्ग जाम कर अपना विरोध प्रकट किया.

इसे भी पढ़ें :- शिवराज सरकार का 600 करोड़ के विज्ञापन घोटाले के बाद फिर 22 करोड़ का विज्ञापन घोटाला उजागर

इसे भी पढ़ें :- विज्ञापन घोटाला : विज्ञापन के नाम पर 600 करोड़ का घोटाला

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में हुई पत्रकार की मौत अखबारों की सुर्खी बना. लेकिन इन सुर्खियों में कहीं भी उसकी हत्या का उल्लेख नहीं था. किसी अखबार ने उसे अपना पत्रकार मानकर उसकी हत्या का उल्लेख करना मुनासिब नहीं समझा. नतीजन मामले को दबाने के प्रयास तेज हो गए. लखीमपुर खीरी जिले में बेख़ौफ़ खनन माफिया ने एक पत्रकार की ट्रैक्टर ट्राली से कुचलवा कर के निर्मम हत्या करा दी. वही चंद कदमों की दूरी पर बनी पुलिस चौकी ने घटना की जानकारी होने के बावजूद भी घटना स्थल पर पहुंचना मुनासिब नहीं समझा.

 

इसे भी पढ़ें :- इलाहाबाद हाईकोर्ट की यूपी सरकार को फटकार, क्या चाहते हो लोग मांस न खाएं ?

इसे भी पढ़ें :- एसडीएम का शव 25 किमी दूर बिना कपड़ों के मिला, बेटे ने कहा- पापा की हत्या

थाना नीमगाँव के बेहजम कस्बा निवासी पत्रकार शैलेंद्र मिश्र उर्फ़ मिंटू रोज की तरह शाम करीब सात बजे अपने घर से निकल कर के इलाहाबाद बैंक के पास चौराहे पर पान की दुकान के पास खड़े थे. तब तक तेज़ रफ़्तार से उलटे हाथ पर आ रहे ट्रैक्टर ने शैलेंद्र मिश्र को टक्कर मार दी जिससे शैलेंद्र की घटना स्थल पर ही मौत हो गयी. घटना की जानकारी होते ही लोगों की भीड़ जुटने लगी. लेकिन घटना स्थल से पांच सौ मीटर की दूरी पर बनी पुलिस चौकी ने घटना की जानकारी होने के दो घण्टे बाद भी मौके पर पहुंचना जरूरी नहीं समझा. इस बात से मृतक पत्रकार के परिजनों ने आक्रोशित होकर शव को रोड पर रख कर जाम लगा दिया. जाम लगते ही प्रशासन के हाँथ पाँव फूलने लगे, लेकिन पत्रकार के परिवार को न्याय नहीं मिला।

दरअसल खनन माफिया बड़े पैमाने पर अवैध खनन करता है. दिखाएंगे अगर एक ट्राली तो खनन करते थे कई ट्राली. जब इस पर पत्रकार रिपोर्टिंग के लिए तैयार हुआ तो उसे धमकी मिली. इसकी उसने शिकायत भी दर्ज कराई. इसके बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हुई और उसे ट्राली ने रौंद दिया. परिवारीजनों ने शव वहां से हटाने से मना कर दिया क्योंकि वह हत्या का मामला दर्ज कराने के लिए प्रयास कर रहे थे. अब खनन में खनन माफिया, नेता, अधिकारी सब सवालों के घेरे में हैं. परिवार वाले हत्या कह रहे हैं और अधिकारी इसे दुर्घटना कह रहे हैं. स्वयं एस डी एम पर तहरीर बदलवाने के आरोप लग रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :- बीपी नापने के बहाने डॉक्टर ने किया नाबालिक से दुष्कर्म, फिर क्या हुआ

इसे भी पढ़ें :- भाजपा विधायक की धमकी, कहा – मुस्लिमों ने राम मंदिर का विरोध किया तो उन्हें हज नहीं जाने देंगे

पत्रकार हत्या की घटना को छिपाने व खनन माफिया रियासत को बचाने के लिए दो बार तहरीर बदलवाई गयी. इसका खुलासा तब हुवा जब उनके परिवार वालों से बात की गई. मृतक पत्रकार के भाई शिशु मिश्र ने बताया कि एसडीएम व थानेदार ने कहा कि मुकदमा लड़ते फिरोगे,  दुर्घटना लिखवाओगे तो कुछ क्लेम मिल जायेगा. कुछ टीवी चैनलों ने इसे हत्या कहकर रिपोर्ट चलाई. कुछ पत्रकार संगठन भी मैदान में कूदते नजर आ रहे हैं. इस मुद्दे पर अखिल भारतीय पत्रकार सुरक्षा समिति ने रात को आपात बैठक भी बुलाई.

इसे भी पढ़ें :- मंत्री का पीए बनकर ठगी करने वाला शैलेंद्र सिंह गिरफ्तार

इसे भी पढ़ें :- सहारनपुर हिंसा पर राज्यसभा में भड़कीं माया, बोलीं- दबाई गई मेरी आवाज, दूंगी सदन से इस्तीफा

मिंटू मिश्रा पत्रकार की हत्या को लेकर लखीमपुर में पत्रकारों ने डीएम को सौंपा ज्ञापन निष्पक्ष जांच की लगाई गुहार।

मिंटू मिश्रा पत्रकार की हत्या को लेकर लखीमपुर में पत्रकारों ने डीएम को सौंपा ज्ञापन निष्पक्ष जांच की लगाई गुहार।

लखीमपुर खीरी केअमर उजाला बेहजम क्षेत्र से रिपोर्टिंग कर रहे शैलेन्द्र मिश्रा उर्फ मिंटू मिश्रा की ट्रैक्टर से कुचल कर सोमवार देर शाम मौत हो गई थी जिसको लेकर आज पत्रकारों ने जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन।

पत्रकारों ने जिलाधिकारी से लगाई निष्पक्ष जांच की गुहार और खनन माफियो पर कार्यवाही के लिए कलक्ट्रेट मैदान में इकट्ठा होकर न्याय के लिए दिया धरना।
भारी संख्या में मौजूद रहे पत्रकार। जिलाधिकारी आकाशदीप ने पत्रकारों को दिया आश्वासन कहा कि मिंटू मिश्रा हत्याकांड की मजिस्ट्रियल जांच होगी दोषी चाहे पुलिस हो या खनन माफिया बचेंगे नहीं।

कोई जवाब दें