85 साल बाद सच सुनते ही खौल उठा देशभक्तों का खून- FIR में नही था भगत सिंह का नाम, फिर भी फांसी?

0
421
Spread the love

ऐसा सच सामने आया है, जिसे सुनकर क्रांत‍िकार‍ियों का खून खौल गया है तो आम जनता भी हैरत में आ गई है। लाहौर पुलिस को 1928 में यहां एक ब्रिटिश पुलिस अधिकारी की हत्या के मामले में दर्ज प्राथमिकी में शहीद-ए-आजम भगत सिंह के नाम का उल्लेख नहीं मिला है। भगत सिंह को फांसी दिये जाने के 83 साल बाद मामले में महान स्वतंत्रता सेनानी की बेगुनाही को साबित करने के लिए यह बडा प्रोत्साहन है। लाहौर पुलिस की विधिक शाखा के एक निरीक्षक ने अतिरिक्त जिला व सत्र न्यायाधीश तारिक महमूद जारगाम को सीलबंद लिफाफे में प्राथमिकी की सत्यापित प्रति सौंपी। भगत सिंह मेमोरियल फाउंडेशन के अध्यक्ष याचिकाकर्ता इम्तियाज राशिद कुरैशी ने याचिका दायर की थी, जिसमें भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के खिलाफ तत्कालीन एसएसपी जॉन पी सैंडर्स की हत्या के मामले में दर्ज प्राथमिकी की सत्यापित प्रति मांगी गयी थी।

Image result for bhagat singh real images

इसे भी पढ़ें :- सरेआम घूस लेते कैमरे में कैद हुए सब इंस्पेक्टर, सोशल मीडिया पर वायरल

इसे भी पढ़ें :- ‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्का’ सैक्स सीन के कारण सेंसर बोर्ड ने नहीं दी इस फिल्म को हरी झंडी

भगत सिंह को सैंडर्स की हत्या के लिए मौत की सजा…

फांसी दिये जाने के आठ दशक से अधिक समय बीत जाने के बाद लाहौर पुलिस ने अदालत के आदेश पर अनारकली थाने के रिकॉर्ड की गहन छानबीन की। सैंडर्स हत्याकांड की प्राथमिकी में 17 दिसंबर 1928 को अपराह्न साढ़े चार बजे ह्यदो अज्ञात लोगोंह्ण के खिलाफ दर्ज किया गया था। एक पुलिस अधिकारी मामले में शिकायतकर्ता था। शिकायतकर्ता-प्रत्यक्षदर्शी ने कहा कि जिस व्यक्ति का उसने पीछा किया वह पांच फुट पांच इंच लंबा था, हिंदू चेहरा, छोटी मूंछें और दुबली पतली और मजबूत काया। वह सफेद रंग का पायजामा और भूरे रंग की कमीज व काले रंग की छोटी क्रिस्टी जैसी टोपी पहने था।

Related image

इसे भी पढ़ें :- मोदी ने किया नोटबंदी के बाद 277 अखबारों का बंदी का काम शुरू, धोखाधड़ी की कार्रवाई भी होगी

लाहौर हाइकोर्ट में भी एक याचिका दायर

मामला भारतीय दंड संहिता की धारा 302,120 और 109 के तहत दर्ज किया गया था। कुरैशी ने कहा कि भगत सिंह के मामले की सुनवाई कर रहे न्यायाधिकरण के विशेष न्यायाधीशों ने मामले के 450 गवाहों को सुने बिना उन्हें मौत की सजा सुनायी गयी। भगत सिंह के वकीलों को उनसे जिरह का अवसर नहीं दिया गया। कुरैशी ने लाहौर हाइकोर्ट में भी एक याचिका दायर की है।

Image result for bhagat singh real images

इसे भी पढ़ें :- विकास के दावा फेल मध्यप्रदेश का हर दूसरा व्यक्ति गरीब

इसे भी पढ़ें :- तलवे में स्वास्तिक का टैटू बनवाकर फंसी सोफिया हयात, एफआईआर दर्ज

हाइकोर्ट ने मामले को मुख्य न्यायाधीश के पास भेजा है ताकि सुनवाई के लिए वह वृहत पीठ का गठन करें। यह तूफानी सच ऐसे समय में सामने आया है, जब भारत का लोकतंत्र चुनावी चक्रव्यूह से गुज़र रहा है। ज़ाह‍िर है इत‍िहास ने अपनी करवट बदली है तो कहीं न कहीं आहट तो होगी ही। देखना है कि अब न्यायपाल‍िका इस सच को किस दिशा में ले जाती है।

इसे भी पढ़ें :- भाभी जी की ये हरकत ‘सोशल मीडिया’ पर मचा रही है धमाल

इसे भी पढ़ें :- महिला सैनिकों के साथ रातभर रेप करके सुबह जंग की तैयारी कर रहे आर्मी वाले


TOC NEWSयदि आपको किसी विभाग में हुए भ्रष्टाचार या फिर मीडिया जगत में खबरों को लेकर हुई सौदेबाजी की खबर है तो हमें जानकारी मेल करें. हम उसे वेबसाइट पर प्रमुखता से स्थान देंगे. किसी भी तरह की जानकारी देने वाले का नाम गोपनीय रखा जायेगा. हमारा mob no 09893221036, 09009844445 & हमारा मेल है

E-mail: timesofcrime@gmail.com, toc_news@yahoo.co.in, toc_news@rediffmail.com

”टाइम्स ऑफ क्राइम” TOC NEWS 

23/टी -7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, जोन-1, प्रेस कॉम्पलेक्स, एम.पी. नगर, भोपाल (म.प्र.) 462011
फोन नं. –  98932 21036, 09009844445

किसी भी प्रकार की सूचना, जानकारी अपराधिक घटना एवं विज्ञापन, समाचार, एजेंसी और समाचार-पत्र प्राप्ति के लिए हमारे क्षेत्रिय संवाददाताओं से सम्पर्क करें।

कोई जवाब दें