हम न्यायालय से सहमत नहीं, मंत्री से इस्तीफा क्यों लें: नंदकुमार सिंह चौहान

0
116
Spread the love

TOC NEWS

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री नंदकुमारसिंह चौहान ने कहा कि भिण्ड की विशेष अदालत द्वारा गोहद के विधायक एवं प्रदेश के नर्मदा घाटी एवं सामान्य प्रशासन राज्यमंत्री श्री लालसिंह आर्य के विरूद्ध गिरफ्तारी वारंट जारी किए जाने के मामले में श्री आर्य को इस्तीफा देने की कोई आवश्यकता नहीं है। न ही वे इस्तीफा देंगे।

इसे भी पढियें :- भोपाल का नटवरलाल सावधान चिटरबाज षड्यंत्रकारी लखनलाल सोनी संचालक एम पी सिक्योरिटी फ़ोर्स से

इसे भी पढ़ें :- 360 घंटे की ब्लू फिल्म की CD बरामद, 50 से अधिक भाजपा मंत्रियों, सांसदों की कैद हैं करतूतें

इसे भी पढ़ें :- प्रमोशन के लिए देसी गर्ल प्रियंका ने फिर पहनी बिकिनी, तहलका मचा देखिए तस्वीरें

श्री चौहान ने कहा कि माखन जाटव की हत्या के जिस मामले को लेकर माननीय न्यायालय में धारा 319 के तहत श्री लालसिंह आर्य को अभियुक्त बनाने की अपील की गयी थी उसमें माननीय न्यायालय ने श्री लालसिंह आर्य को बिना समन जारी किए ही गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया।

इसे भी पढ़ें :- भाजपा सांसद ने महिला वकील का डरा धमकाकर किया बलात्कार

इसे भी पढ़ें :- भाजपा नेता के होटल में चल रहा था सैक्स रैकेट, कमरों से कई जोड़े पकड़े गए

जब यह बात श्री आर्य की ओर से संज्ञान में लायी गयी तो न्यायालय ने इस गिरफ्तारी वारंट पर रोक लगा दी।

श्री चौहान ने कहा कि हमें न्याय प्रक्रिया पर पूरा भरोसा है और हमारा पूर्ण विश्वास है कि श्री लालसिंह आर्य का किसी हत्याकांड से कोई लेना देना नहीं है।

इसे भी पढ़ें :- FB पर बेटी ने डाल दी ऐसी फोटो, देखकर पिता ने दे दी जान

इसे भी पढ़ें :- सरकार करेगी समाचार पत्र संबंधी आवश्यकता की पूर्ति शीघ्र : राज्यवर्धन सिंह राठौर

इसलिए हम उच्च न्यायालय में जायेंगे क्योंकि पुलिस की जांच में श्री लालसिंह आर्य को क्लीनचिट दी जा चुकी है।

इसे भी पढ़ें :- सासंद ज्योति धुर्वे को बचाने के चक्कर में भाजपा के बुरी तरह फसी ! फर्जी जाति प्रमाण पत्र के मामले में

इसे भी पढ़ें :- लुटेरा बन गया सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कोलार के जनभागीदारी समिति में विधायक प्रतिनिधि

बात दें बीते दिनों हुए विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने पांच राज्यों में से चार में प्रचंड जीत हासिल की थी। कांग्रेस की हर तरफ बुरी तरह हार हुई थी। हालाकि, कांग्रेस ने 10 साल बाद पंजाब में सरकार बनाई थी।


इसे भी पढियें :- 

इसे भी पढियें :- भोपाल का नटवरलाल सावधान चिटरबाज षड्यंत्रकारी लखनलाल सोनी संचालक एम पी सिक्योरिटी फ़ोर्स से

कोई जवाब दें