स्तनपान और स्वच्छता जागरूकता के लिए एनसीएल ने लगाया जागरूकता शिविर, 250 महिलाओं एवं बच्चों को स्वच्छता किट और कपड़े के थैले बांटे

0
404
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

जिला ब्यूरो चीफ सिंगरौली  // नीरज गुप्ता  7771822877 

सिंगरौली . माताओं को अपने शिशुओं को नियमित रूप से स्तनपान कराने और स्वच्छता के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (एनसीएल) के नेहरू शताब्दी चिकित्सालय (एनएससी) ने बृहस्पतिवार को विशेष जागरूकता शिविर का आयोजन किया।

एनएससी की निगमित सामाजिक दायित्व (सीएसआर) योजना के तहत दुधीचुआ सेक्टर – ‘बी’ में आयोजित शिविर में आस-पास की लगभग 250 महिलाओं एवं 2 माह से 18 वर्ष तक के 250 बच्चों को स्वच्छता किट और प्लास्टिक थैलों के विकल्प के रूप में कपड़े के थैले भी दिए गए।

इसे भी पढ़ें :- हजारों यात्री होते हैं प्रतिदिन परेशान, बरगवां में जल्द बने बस स्टैंड जनता की माँग

एनएससी के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ॰ विवेक खरे एवं डॉ॰ मंजरी मेहता ने प्रतिभागी महिलाओं को बताया कि मां का दूध बच्चे के लिए सर्वोत्तम आहार है। बच्चे के जन्म के तुरंत बाद से लेकर 6 महीनों तक उन्हें सिर्फ मां का दूध ही पिलाना चाहिए। मां का दूध बच्चे को न सिर्फ स्वस्थ रखता है, बल्कि तपेदिक, गलघोंटू, काली खांसी, पोलियो, टिटनेस एवं खसरे जैसे जानलेवा बीमारियों से भी उनकी रक्षा करता है।

इसे भी पढ़ें :- आदिवासियों के नाम पर बड़ा घोटाला : आदिवासी किसानों के नाम पर 100 करोड़ की गड़बड़ी, अब होगी जांच

कार्यक्रम में महिलाओं को यह भी बताया गया कि स्तनपान कराने से सिर्फ नवजात बच्चे को ही, बल्कि माताओं को भी लाभ होता है और उन्हें भी स्तन कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों से बचने में सहायता मिलती है। साथ ही, उन्होंने बच्चों को दूध पिलाने में प्लास्टिक की बोतल का प्रयोग कभी भी नहीं करने की हिदायत भी दी।

इसे भी पढ़ें :- एनटीपीसी विंध्याचल का ऐशडैम फूटा, करोड़ों का नुकसान, जयनगर जुवाड़ी अमहवाटोला गांव में भय का माहौल, त्राही त्राही

एनएससी के स्टाफ अधिकारी (कार्मिक) श्री पी॰ के॰ दूबे एवं सहायक प्रबंधक (कार्मिक) श्रीमती कोरल वर्मा ने महिलाओं एवं बच्चों को उनके अच्छे स्वास्थ्य में व्यक्तिगत एवं घरेलू स्वच्छता रखने का महत्व समझाया और खुले में शौच करने के नुकसान बताए।

कोई जवाब दें