सुशील मोदी की ज़िन्दगी में आया भूचाल, तेजस्वी ने उठाया इस घोटाले से पर्दा, पेश किये सबूत

0
277
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और राजद के नेता तेजस्वी यादव पिछले काफी समय से बिहार के सीएम नीतीश कुमार और सुशील मोदी पर सृजन घोटाले में शामिल होने का आरोप लगाते आए है। इस बार तेजस्वी यादव ने सबूत के साथ बिहार के उपमुख्यमंत्री और भाजपा नेता सुशील मोदी के रिश्तेदारों पर सृजन घोटाले में शामिल होने का आरोप लगाया है। साथ ही तेजस्वी ने सुशील मोदी की रिश्तेदार रेखा मोदी और उर्वशी मोदी के अकाउंट में ट्रानजेक्शन के सबूत भी शेयर किये।

तेजस्वी यादव ने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक के बाद एक कई ट्वीट कर इस घोटाले से पर्दा उठाने की कोशिश की और सीबीआई पर सवाल उठाए। उन्होंने अपने पहले ट्वीट में कुछ तस्वीर शेयर करते हुए लिखा कि बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी की बहन रेखा मोदी और भांजी उर्वशी मोदी ने सृजन घोटाले से करोड़ो रूपए रिसीव किए थे। सृजन घोटाले की बैंक स्टेटमेंट इस बात का सबूत है. सुशील मोदी और नीतीश कुमार 2500 करोड़ रूपय के सृजन घोटाले के डायरेक्ट पार्टी है, लेकिन सीबीआई ने न इस घोटाले में उनका नाम शामिल किया और न ही उनसे कोई पूछताछ की, क्यों?

 

अगले ट्वीट में तेजस्वी ने कहा कि वर्षो से उपमुख्यमंत्री कम वित्त मंत्री सुशील मोदी के सक्षम मार्गदर्शन और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ध्वनी और ज्ञात संरक्षण के तहत 2500 करोड़ का राज्य राष्ट्रकोष सृजन घोटाले में लूटा गया। क्यों मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री ने आरबीआई और फिर भारत के वित्त मंत्रालय से शिकायतों पर कोई कदम नहीं उठाया?

 

तेजस्वी ने अगले ट्वीट में लिखा कि मेरे पास सुबूत हैं जिससे में साबित कर सकता हूं कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इसकी पूरी जानकारी थी। लेकिन उन्होंने इस बारे में कोई जानकारी नहीं ली, इसकी लूट मची रही और वो आंखें बंद किए रहे। उनकी पार्टी के नेता इसमें डायरेक्ट जुड़े हुए थे और फंडिंग होती रही थी।

 

अगले ट्वीट में तेजस्वी ने लिखा कि मैं उन मीडिया हाउसों से अनुरोध करता हूं जो राज्य सरकार के भ्रष्टाचार और लूट के खिलाफ हैं कि सृजन घोटाले में जांच और रिपोर्ट करें। इस विशाल घोटाले में मुख्यमंत्री, डिप्टी सीएम, बीजेपी, जेडीयू मंत्रियों और नेताओं की भागीदारी के स्पष्ट सबूत हैं।

 

गौरतलब है कि पिछले वर्ष अगस्त महीने में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भागलपुर जिले में उजागर करीब 1,500 करोड़ रुपये के ‘सृजन घोटाला’ मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को सौंप दी थी। इसके बाद उन्होंने सोचा था मामला शांत हो जाएगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ और महागठबंधन में उनकी साथी रही राजद ने इस घोटाले को और उजागर कर दिया है। राजद का दावा है कि यह घोटाला 1500 का करोड़ का नहीं बल्की 2500 करोड़ का है। अब बिहार के पूर्व उप्मुख्याम्नात्री और राजद नेता तेजस्वी यादव इस घोटाले से पर्दा उठा रहे है और सबूत पेश कर रहे है। उनका आरोप है कि इस घोटाले में सीएम नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी दोनों की भागीदारी है।

कोई जवाब दें