सपा नेता नरेश अग्रवाल ने देवी-देवताओं पर दिया विवादास्पद बयान, मचा बवाल

0
177
Spread the love

TOC NEWS

सपा सांसद नरेश अग्रवाल ने राज्य सभा में हिंदू देवी देवताओं को लेकर दिए गए बयान पर हंगामा मच गया। दरअसल सांसद नरेश अग्रवाल ने राज्य सभा में कहा कि ‘विस्की में विष्णु बसें, रम में श्रीराम, जिन में माता जानकी और ठर्रे में हनुमान। सियावर रामचंद्र की जय’। उनके इस बयान पर राज्य सभा में भारी हंगामा हुआ। हालांकि बाद में हंगामे के बाद नरेश अग्रवाल ने अपने बयान पर खेद व्यक्त किया।

इसे भी पढ़ें :- विज्ञापन घोटाला : विज्ञापन के नाम पर 600 करोड़ का घोटाला

उन्होंने कहा कि राम सीता के बारे में मेरा अपना बयान नहीं है मैंने दीवार पर लिखे नारे को पढ़ा। नरेश अग्रवाल के बयान को बाद में राज्यसभा की कार्रवाई से हटा दिया गया। हिंदू देवी देवताओं पर दिए नरेश अग्रवाल का बयान ‘विस्की में विष्णु बसें, रम में श्रीराम, जिन में माता जानकी और ठर्रे में हनुमान।

सियावर रामचंद्र की जय’ सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। ट्विटर पर लोगों ने हिंदू देवी देवताओं के अपमान करने पर जमकर आलोचना की तो वहीं कई लोगों चुटकी ली। ट्विटर पर रविकांत नाम के यूजर ने लिखा कि जब फेसबुक पोस्ट पर एक नाबालिग को गिरफ्तार किया जा सकता है तो सांसद नरेश अग्रवाल को क्यों नहीं?

इसे भी पढ़ें :- इलाहाबाद हाईकोर्ट की यूपी सरकार को फटकार, क्या चाहते हो लोग मांस न खाएं ?

इसे भी पढ़ें :- एसडीएम का शव 25 किमी दूर बिना कपड़ों के मिला, बेटे ने कहा- पापा की हत्या

जेटली ने नरेश अग्रवाल से पूछा, हिन्दुओं को छोड़ किसी और धर्म का अपमान करने का साहस है क्या ?

सांसद नरेश अग्रवाल से वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सीधे-सीधे पूछा कि क्या उनमें हिन्दू धर्म को छोड़कर किसी और धर्म को लेकर इस तरह का बयान देने का साहस है.

जेटली ने अग्रवाल को चेतावनी दी कि अगर वो ये बयान संसद से बाहर देते तो उन पर मुकदमा हो जाता. जेटली की बात को दुहराते हुए अनंत कुमार ने कहा कि सदन में सदस्यों को मिले संरक्षण का गलत फायदा उठाकर अग्रवाल ने देश के बहुसंख्यक लोगों का अपमान किया है.

इसे भी पढ़ें :- भाजपा विधायक की धमकी, कहा – मुस्लिमों ने राम मंदिर का विरोध किया तो उन्हें हज नहीं जाने देंगे

मॉब लिंचिंग पर राज्यसभा में बहस के दौरान सपा सांसद नरेश अग्रवाल ने कहा था कि कुछ लोग हिंदू धर्म के ठेकेदार हो गए हैं. उन्होंने कहा, “मुझे याद है कि राम जन्मभूमि आंदोलन के दौरान हम जेल गए थे. उस दौरान बीजेपी कार्यकर्ताओं ने जेल की दीवारों पर चार पक्तियां लिखी थीं.”
नरेश अग्रवाल ने जैसे ही हिन्दू देवी-देवताओं की शराब से तुलना करने वाली विवादित लाइन पढ़ीं वैसे ही राज्यसभा में बीजेपी नेताओं ने जोरादार हंगामा शुरू कर दिया. बीजेपी नेताओं ने इस दौरान नारा लगाना शुरू कर दिया कि श्री राम का अपमान, नहीं सहेगा हिंदुस्तान.

इसे भी पढ़ें :- मंत्री का पीए बनकर ठगी करने वाला शैलेंद्र सिंह गिरफ्तार

इसे भी पढ़ें :- सहारनपुर हिंसा पर राज्यसभा में भड़कीं माया, बोलीं- दबाई गई मेरी आवाज, दूंगी सदन से इस्तीफा

बीजेपी सांसदों के हंगामे के बीच उपसभापति पीजे कुरियन ने कहा कि वो बयान को देखेंगे और तय करेंगे कि उसे कार्यवाही से बाहर निकाला जाए या नहीं. इस पर मुख्तार अब्बास नकवी उठे और उन्होंने कहा कि जब तक उपसभापति नरेश अग्रवाल का विवादित बयान देख नहीं लेते और उसे सदन की कार्यवाही से निकाल नहीं देते, सदन की कार्यवाही को स्थगित कर दिया जाए.
नरेश अग्रवाल से माफी की मांग को लेकर बीजेपी सांसदों के भारी हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही 10 मिनट के लिए स्थगित कर दी गई. बाद में विवाद बढ़ता देख नरेश अग्रवाल ने अपने बयान को वापस ले लिया और उसके लिए खेद जताया लेकिन माफी मांगने से इनकार कर दिया. अग्रवाल के खेद जताने के बाद उनका बयान राज्यसभा की कार्यवाही से हटा दिया गया है.

कोई जवाब दें