सनसनीखेज अपहरण प्रकरण का खुलासा, कल्पना से परे रची फरियादी ने अपहरण की साजिश

0
643
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

  • कल्पना से परे रची फरियादी ने अपहरण की साजिश 
  • क्राइम सीरियल देखकर रचा खुद के अपहरण का षड्यंत्र
  • कल्पना से परे रची फरियादी ने अपहरण की साजिश
  • पैसे की भूख ने बनाया खुद को गुनाहगार
  • बंधक बनाने के फोटो भेज कर पत्नी को किया परेशान, पुलिस को किया हैरान
  • फरियादी है साइबर का एक्सपर्ट पुलिस से पकड़े जाने की नहीं थी उम्मीद
  • सालों से रकम ऐंठने के लिए पत्नी पर बनाया दबाव
  • उत्तर प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा और राजस्थान चार राज्यों में पुलिस को दौड़ाया
  • पुलिस की तत्परता के चलते फिरौती की रकम नहीं ऐंठ पाया आरोपी
  • अपहर्ता व षड्यंत्र कर्ता जयपुर से बरामद।
  • अपहर्ता द्वारा कर्जे से परेशान होकर रची स्वयं के अपहरण की कहानी।
  • भ्रामक छायाचित्रो व मैसेजो से कर रहा था पुलिस व सभी को भ्रमित।

इंदौर. दिनांक 11 अक्टूबर 2019 सूचनाकर्ता भारती चौधरी निवासी न्यू हरसिद्धि नगर खजराना इंदौर द्वारा थाना उपस्थित होकर सूचित किया कि उसका पति मनोज कुमार पिता कुंवरपाल सिंह चौधरी उम्र 30 साल निवासी सदर का दिनांक 10 अक्टूबर 2019 के दोपहर 1:00 बजे किराने की दुकान से सामान लाने का बोलकर गया था, जो वापस घर नहीं आए जिसकी आसपास तलाश करते नहीं मिला पर से गुमशुदगी दर्ज कर जांच में लिया गया।

इसी कड़ी में एक नया मोड़ दिनांक 13 अक्टूबर 2019 को आया जब फरियादी भारती चौधरी द्वारा पुनः थाना उपस्थित होकर रिपोर्ट किया कि उसकी भाभी रीना चौधरी निवासी गाजियाबाद उत्तर प्रदेश के मोबाइल पर उसके पति मनोज चौहान के व्हाट्सएप से मैसेज आया है जिसमें पति मनोज का हाथ मुह बंधा फ़ोटो आया है। फरियादिया के पास एंड्राइड मोबाइल ना होने से उसके द्वारा उक्त फोटो पड़ोसी रवि के मोबाइल पर मंगाया गया।

इसे भी पढ़ें :- सापना डैम के किनारे विस्फोटक का जखीरा, कभी भी फूट सकता जलाशय

मनोज द्वारा अपने ही नंबर से फरियादिया भारती से फोन कर बोला कि मुझे किडनैप कर लिया है तथा किडनेपर ₹400000 मांग रहे हैं वह भाई से बोल कर उसके अकाउंट में पैसा जमा करवा दें नहीं तो किडनी पर उसे मार देंगे। उक्त पर से अज्ञात आरोपीयो के विरुद्ध मनोज को बंधक बनाकर फिरौती मांगने संबंध में धारा 364-ए भादवी के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

इसे भी पढ़ें :- विडियो ख़बर : चितरंगी ब्लाक में करोड़ों का अवैध खनिज कारोबार जारी, अवैध धंधे में लगे माफिया के हौसले बुलन्द, प्रशासन चुप

प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदया श्रीमती रुचिवर्धन मिश्र द्वारा पुलिस अधीक्षक पूर्व श्री यूसुफ कुरैशी के मार्गदर्शन व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पूर्व जोन 02 श्री शैलेंद्र सिंह चौहान, नगर पुलिस अधीक्षक अनुभाग खजराना श्री एस.के.एस तोमर के निर्देशन में टीम गठित की गई। टीम का नेतृत्व थाना प्रभारी खजराना प्रीतम सिंह ठाकुर द्वारा किया गया।

इसे भी पढ़ें :- भाजपा के पूर्व विधायक की ‘गायब’ बेटी का वीडियो सामने आया बोली मैं किसी के साथ नहीं, अकेली आई हूं, घर में थी परेशान

अपहर्ता स्वयं अपने मोबाइल के व्हाट्सएप मैसेजो के माध्यम से अलग अलग समय व दिनांकों को परिवारजनों के मोबाइल पर मैसेज कर रहा था, अपहर्ता कभी स्वयं का मुंह बना हुआ, कभी सर पर पट्टी बंधी हुई, कभी जमीन पर पड़ा तथा कपड़े में लिप्त हुए फोटो मैसेज करता था तथा अपनी पत्नी के मोबाइल पर फोन कर पैसा जल्दी डलवाने तथा किडनैपर को बहुत खतरनाक बताता तथा बोलता था कि किडनैपर उसके साथ बहुत मारपीट कर रहे है तथा जल्दी पैसा नही डाला तो वह मार डालेंगे ओर फ़ोन कट जाता था।

इसे भी पढ़ें :- प्रेमिका से बेवफाई अपराध नहीं, कोर्ट ने यह कहकर दुष्‍कर्म के आरोपी को कर दिया बरी.. पूरी खबर

प्रकरण में लगातार वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में अपहर्ता की तलाश के प्रयास किए जा रहे थे। अपहर्ता के ए.टी.एम से दिल्ली, मथुरा व जयपुर के एटीएम से पैसे निकाले गए थे। प्रकरण में सभी कड़ियों को जोड़कर तथा मुखबिर से प्राप्त सूचना की अपहर्ता मनोज जयपुर राजस्थान में है। उक्त पर से तत्काल एक टीम को जयपुर राजस्थान भेजा गया, जहां टीम द्वारा अपहर्ता को जयपुर की एक होटल से बरामद किया गया।

अपहर्ता से पूछताछ पर बताया कि उसकी चित्रा नगर में किराए की मोबाइल शॉप है, जिसमें वह एमपी ऑनलाइन का काम करता है तथा मोबाइल फाइनेंस कर बेचता है। उक्त दुकान के पास में ही उसकी किराने की दुकान है जिस पर उसकी पत्नी बैठती है।

इसे भी पढ़ें :- रैनबैक्सी के पूर्व CEO शिविंदर सिंह गिरफ्तार, 740 करोड़ रुपये की हेराफेरी का आरोप

उसके सिर पर डेढ़ लाख रुपए से अधिक का कर्जा हो गया था, उससे कर्जाधारी लोग पैसा मांग रहे थे, कर्जाधारियों से परेशान हो गया था। उसे कुछ न सूझा तो उसने खुद के अपहरण की कहानी रच दी तथा वह पुलिस व परिवारजनों को भ्रामक मैसेजो के माध्यम से लगातार भ्रमित करता रहा। किंतु पुलिस की सूझबूझ के आगे वह टिक नहीं पाया।

उक्त कार्यवाही में वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में थाना प्रभारी खजराना प्रीतम सिंह ठाकुर, सहायक उपनिरीक्षक महेंद्र सिंह दंडोतिया टीम का सराहनीय योगदान रहा।

कोई जवाब दें