संदिग्ध टीटी को जब आरपीएफ व जीआरपी ने दबोचा तो हुआ चौकाने वाला खुलासा

0
91
Spread the love

TOC NEWS

झाँसी। टीटी बनकर यात्रियों के टिकट चैक करते हुए एक शातिर जालसाज को रेलवे पुलिस ने रंगे हाथों धर दबोचा। पकड़े जाने के बाद उसने जो खुलासे किए उसे सुनकर सभी दंग रह गए। टीटी बनकर उसने न केवल सैकड़ों यात्रियों को ही चूना नहीं लगाया बल्कि खुद को प्रतिष्ठित चैनल का पत्रकार बताकर रेलवे के कई बड़े अधिकारियों को धोखे में रखते हुए लोगों से नौकरी लगवाने के नाम पर अलग-अलग शहरों के लोगों से लाखों रूपये लेकर डकार गया। लेकिन आज झाँसी स्टेशन पर उसकी होशियार नहीं चली और दूसरों का टिकट चैक करते-करते खुद ही सलाखों के पीछे पहुंच गया।

वरिष्ठ मण्डल सुरक्षा आयुक्त के निर्देशन में निरीक्षक राजीव उपाध्याय के नेतृत्व में आरपीएफ तथा जीआरपी के जवान स्टेशन परिसर में गश्त कर रहे थे तभी उन्हें सूचना मिली कि एक संदिग्ध टीटी जीआरपी रेलवे ब्रिज पर यात्रियों के टिकट चैक कर रहा है जिसको पहले कभी भी झाँसी स्टेशन पर देखा नहीं गया, सूचना मिलते ही पुलिस के जवान बताए गए स्थान पर पहुंचे तो उक्त व्यक्ति सादा कपड़ों में यात्रियों के टिकट चैक करते हुए देखा गया, पुलिस के जवानों द्वारा उक्त व्यक्ति से उसका परिचय पूछा तो उसने खुद को टीटी बताते हुए एसईसीआर रेलवे लिखी हुई नेम प्लेट दिखाई जिसे देखकर जवानों को संदेश हुआ कि एसईसीआर रेलवे का टीटी झाँसी स्टेशन पर टिकट चैकिंग क्यों कर रहा है।

जब उक्त व्यक्ति से सख्ती से पूछताछ करने पर उसने अपना नाम रोहित वाजपेयी पुत्र दिनेश चन्द्र वाजपेयी निवासी रिलायन्स बिल्डिंग कलरीसाफीपुर कानपुर नगर उत्तर प्रदेश तथा अन्य निवास स्थान ईलाहाबाद, कन्नौज तथा वर्तमान पता रायपुर बताया। तलाशी लेने पर उसके पास से जो सामग्री मिले उसे देखकर सभी दंग रह गए। उसके कब्जे से टीटी की एक नेम प्लेट, इलाहाबाद नियुक्ति वालाा एक टीटी आई कार्ड, सीनियर डीपीओ इलाहाबाद तथा डीआरएम इलाहाबाद की मोहर बरामद की गयी।

पकड़े गए फर्जी टीटी के पास से एबीपी न्यूज में सम्पादक का आई कार्ड भी बरामद किया गया। इतना ही नहीं उसने बताया कि वह पहले इलाहाबाद में रहता था तथा फर्जी टीटी बनकर लोगों को नौकरी लगवाने का झॉसा देकर पैसा लेकर फर्जी नियुक्ति पत्र देकर कई लोगों से लाखो रूपये की ठगी कर चुका है तथा पकडे़ जाने के डर से वर्तमान में रायपुर में रह रहा हूँ उसने पुलिस को बताया कि अभी तक लगभग 10 लोगों को नौकरी दिलाने का झांसा देकर उनसे लगभग 20-25 लाख रूपये ठग चुका है।

उसने बताया कि इलाहाबाद में रहकर फर्जी एबीपी न्यूज का पत्रकार बनकर रेलवे के जीएम, डीआरएम तथा अन्य क्लास वन अधिकारियों से बातचीत करता था इसके साथ ही समय-समय पर एचओ कोटा में टिकट कन्फर्म भी करा देता था, इतना ही नहीं लोगों को झांसे में लेने के लिए टिविटर से अधिकारियों को फोटो अपने मोबाइल में सेफ करके उन्हें यकीन दिलाता था कि उसकी अधिकारियों से पहचान है और वह नौकरी लगवा सकता है। मोबाइल चैक करने पर रेलवे तथा पुलिस के कई अधिकारियों के फोटो पाये गये जिसके बारे में बताया कि फेसबुक, टिविटर व वाटसऐप से निकाले है जिससें लोगों को लगे कि वह बहुत पहुंच वाला व्यक्ति है। शातिर ने बताया कि उसने रायपुर स्टेशन पर भी ठगी का काम प्रारम्भ किया है।

पुलिस के जवान उक्त शातिर ठग को जीआरपी थाने लायी और उसके विरूद्व धारा 419, 420, 462, 468, 471 आईपीसी के तहत मामला दर्ज किया गया। इसके साथ ही जीआरपी उक्त पकड़े गए ठग के द्वारा ठगी के शिकार हुये लोगों का पता लगाने का प्रयास कर रही है।

कोई जवाब दें