विधायकों के इस्तीफे से कांग्रेस में खौफ, EC ने गुजरात चीफ सेक्रेटरी से मांगी रिपोर्ट

0
144
Spread the love

TOC NEWS // TIMES OF CRIME

गुजरात में कांग्रेस पार्टी संकट में है वजह है विधायकों का अपनी ही पार्टी से इस्तीफा। पार्टी में जारी उठापठक के बीच कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने मामले को चुनाव आयोग के समक्ष रख ज्ञापन सौंपा है।

कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल के ज्ञापन सौंपने के बाद चुनाव आयोग ने गुजरात चीफ सेक्रेटरी से 31 जुलाई तक जांच रिपोर्ट की  मांग की है। आयोग ने राज्य सरकार को कांग्रेस के सभी विधायकों और उनके परिवार को सुरक्षा दी जाए।

इसे भी पढ़ें :- खुलासा : नए उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी हैं बड़े वाले भ्रष्टाचारी, 11 हजार करोड़ के गबन का आरोप

इसे भी पढ़ें :- जेठमलानी ने जेटली को खत लिखकर किया केजरीवाल के बारे में यह खुलासा, अपशब्दों का करूं उपयोग

कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल में पार्टी नेता गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, मनीष तिवारी और अभिषेक मनु सिंघवी शामिल थे। कांग्रेस का आरोप है कि भाजपा ने उनके विधायकों की खरीद-फरोख्त की है। इस बीच गुजरात विधानसभा के स्पीकर रमनलाल वोहरा ने कहा कि किस विधायक ने किस पार्टी से इस्तीफा दिया और किस पार्टी के लिए दिया ये उनका काम नहीं।

इसे भी पढ़ें :- प्रेमी के साथ मिलकर बनाया पति के मर्डर का प्लान, पहले गला काटा फिर पेट फाड़ डाला

इसे भी पढ़ें :- पांच साल तक प्यार करने के बाद किन्नर की हत्या

वह इस पूरे मामले में निष्पक्ष हैं, सभी विधायकों को मुझपर पूरा भरोसा है।’ गौरतलब है कि गुरुवार को कांग्रेस के तीन विधायकों ने पार्टी छोड़ दी थी और शुक्रवार को भी कांग्रेस के तीन विधायकों ने पार्टी से इस्तीफा दे बीजेपी का हाथ थाम लिया। इसमें छनाभाई चौधरी, रामसिंह परमार और मान सिंह चौहान ने पार्टी को अलविदा कह दिया।

इसे भी पढ़ें :- सुनील ग्रोवर ने कपिल शर्मा को दिया एक और झटका, डिप्रेशन में कपिल शर्मा

इसे भी पढ़ें :- करोड़ों का चूना लगा रफू चक्कर हुई मेंटेना कंपनी

वहीं, जामनगर ग्रामीण से विधायक राघव सिंह पटेल ने कहा है कि वह अगला चुनाव कांग्रेस से नहीं लड़ेंगे और जब बीजेपी कहेगी, तब इस्तीफा दे देंगे। विधायकों की इस टूट से पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल के राज्यसभा पहुंचने की राह मुश्किल होती दिख रही है। बता दें कि 8 अगस्त को राज्यसभा चुनाव होने हैं और ऐसे में पिछले 24 घंटों में कांग्रेस को पार्टी के 6 विधायकों से हाथ धोना पड़ गया है जो कि पार्टी के लिए राज्यसभा चुनाव से पहले बड़ा झटका माना जा रहा है।

इसे भी पढ़ें :- नीतीश का इस्तीफा : भ्रष्टाचार से समझौता नहीं, मेरे लिए काम करना संभव नहीं रह गया था

इसे भी पढ़ें :- नीतीश कुमार धारा 302 के तहत हत्या के आरोपी : लालू यादव

कोई जवाब दें