रजनीकांत की अमित शाह को दो टूक – पूरे देश पर मत थोपो हिन्दी वरना…..

0
1550
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

कमल हासन के बाद अब मशहूर अभिनेता रजनीकांत ने हिंदी भाषा को लेकर दिये गए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के बयान पर टिप्पणी की है। रजनीकांत ने बुधवार को कहा कि कोई भी दक्षिणी राज्‍य हिंदी भाषा को नहीं अपनाएगा। उन्‍होंने कहा कि हिंदी हो या कोई और भाषा उसे जबरन नहीं थोपा जाना चाहिए।

उन्होंने यहां हवाईअड्डे पर संवाददाताओं से कहा, ‘‘केवल भारत ही नहीं, बल्कि किसी भी देश के लिए एक आम भाषा होना उसकी एकता एवं प्रगति के लिए अच्छा होता है। दुर्भाग्यवश, हमारे देश में एक आम भाषा नहीं हो सकती, इसलिए आप कोई भाषा थोप नहीं सकते।”

 

इसे भी पढ़ें :- ब्रेकिंग न्यूज : मप्र के अपर मुख्य सचिव पी सी मीणा की अय्यासी का सोशल मिडिया में वीडियो वायरल

उन्होंने कहा, ‘‘विशेष रूप से, यदि आप हिंदी थोपते हैं, तो तमिलनाडु ही नहीं, बल्कि कोई भी दक्षिणी राज्य इसे स्वीकार नहीं करेगा। उत्तर भारत में भी कई राज्य यह स्वीकार नहीं करेंगे।”

बता दें कि रजनीकांत से पहले अभिनेता से नेता बने कमल हासन ने भी सोमवार को केंद्र सरकार को ‘एक देश, एक भाषा’ को बढ़ावा देने के खिलाफ चेतावनी दी थी। एक विडियो जारी कर कमल ने अप्रत्यक्ष रूप से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर हमला करते हुए कहा है कि भारत 1950 में ‘अनेकता में एकता’ के वादे के साथ गणतंत्र बना था और अब कोई ‘शाह, सुल्तान या सम्राट’ इससे इनकार नहीं कर सकता है। बता दें कि अमित शाह ने हिंदी दिवस पर ‘एक राष्ट्र, एक भाषा’ की पैरवी की थी।

इसे भी पढ़ें :- स्वामी चिन्मयानंद का लड़की के साथ अय्याशी, मस्ती करते विडियो वॉयरल, देखें इनकी काली करतूत

कमल हासन ने कहा था, ‘जल्लीकट्टू तो सिर्फ विरोध प्रदर्शन था। हमारी भाषा के लिए जंग उससे कई गुना ज्यादा होगी। राष्ट्रगान भी बांग्ला में होता है, उनकी मातृभाषा में नहीं। वह जिस बात का प्रतीक है, उसकी वजह से हम उसे गाते हैं और इसलिए क्योंकि जिस शख्स ने उसे लिखा वह हर भाषा को अहमियत और सम्मान देते थे।’ कमल ने कहा कि भारत एक संघ है जहां सभी सौहार्द के साथ मिलकर बैठते हैं और खाते हैं। हमें बलपूर्वक खिलाया नहीं जा सकता।

कोई जवाब दें