मैंने हेमंत करकरे को श्राप दिया था, इसीलिए वह मारा गया : प्रज्ञा सिंह ठाकुर

0
122
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

भोपाल लोक सभा सीट से भारतीय जनता पार्टी की प्रत्याशी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने विवादित बयान दिया है. उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘मैंने हेमंत करकरे को श्राप दिया था कि तेरा सर्वनाश हो जाएगा. इसके सवा महीने बाद ही वह आतंकियों के हाथों मारा गया.’  प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने हेमंत करकरे को ‘देशद्रोही और धर्मद्रोही’ भी क़रार दिया.

उन्होंने कहा, ‘मालेगांव बम धमाके की जांच करने वाली टीम ने हेमंत करकरे को समझाया था. उस टीम के कई सदस्यों ने कहा कि अगर इनके (प्रज्ञा सिंह ठाकुर) ख़िलाफ़ कोई सबूत नहीं है ताे इन्हें छोड़ देना चाहिए. लेकिन हेमंत करकरे का तब ज़वाब ये था कि मैं किसी भी तरह, कुछ भी करके सबूत जुटाऊंगा.’ उनके इस बयान के बीच उन्हें घेरकर खड़े स्थानीय भाजपा नेताओं ने तालियां भी बजाईं.

ग़ौरतलब है कि हेमंत करकरे महाराष्ट्र पुलिस की आतंक निरोधक इकाई (एटीएस) के प्रमुख हुआ करते थे. मालेगांव में सितंबर 2008 में हुए बम धमाके की जांच उन्हीं के नेतृत्व में हो रही थी. उन्होंने ही प्रज्ञा सिंह ठाकुर और अन्य आरोपितों को ग़िरफ़्तार किया था. सभी पर बम धमाके की साज़िश का आरोप दर्ज़ किया था. लेकिन हेमंत करकरे आरोपितों के ख़िलाफ़ सबूत जुटा पाते इससे पहले 2008 में ही वे मुंबई पर हमला करने आए पाकिस्तानी आतंकियों से मुक़ाबला करते हुए शहीद हो गए.

ग़ौर करने की बात ये भी है कि मालेगांव बम धमाके की पहले नंबर की आरोपित प्रज्ञा सिंह ठाकुर को 2015 में एनआईए (राष्ट्रीय जांच एजेंसी) की विशेष अदालत ने सबूतों के अभाव में दोषमुक्त कर दिया था. उन्होंने अभी बीती 16 तारीख़ को ही भाजपा की सदस्यता ली है. इसके कुछ घंटे बाद ही भाजपा ने उन्हें भोपाल से अपना उम्मीदवार बना दिया. कांग्रेस ने इस सीट से मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को टिकट दिया है जो प्रज्ञा सिंह ठाकुर को ‘भगवा आतंकवाद का मुखौटा’ कहते रहे हैं.

कोई जवाब दें