मिलावटखोरों के खिलाफ 100 से ज्यादा एफआईआर दर्ज, 40 खाद्य कारोबारियों पर रासुका की कार्रवाई

0
1759
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

भोपाल :  विनय जी डेविड  : 9893221036 

 मिलावटखोरों पर 4 करोड़ 56 लाख से अधिक का जुर्माना, 24 करोड़ रूपये से अधिक का सामान जप्त स्वास्थ्य मंत्री श्री तुलसी सिलावट ने बताई खाद्य सुरक्षा विभाग की कर्रवाई

भोपाल : खाद्य सुरक्षा विभाग का विगत 5 माह की कार्रवाई का विवरण आज स्वस्थ्य मंत्री श्री तुलसी सिलावट ने जारी किया। जिसमें बताया गया कि प्रदेश के इतिहास में अब तक कि सबसे सटीक  और प्रभावी कर्रवाई हुई है। 40 मिलावटी समान बेचने वालों के विरुद्ध रासुका की कार्रवाई की गई है।

100 से अधिक खाद्य पदार्थो में मिलावट करने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। प्रदेश में यह अब तक कि सबसे बड़ी कार्रवाई है जो लगातार जारी है। मुख्यमन्त्री श्री कमलनाथ ने शुद्ध के लिए युद्ध अभियान को सरकार की सबसे महत्ती कार्रवाई बताया है और उसे लागतार जारी रखने का निर्देश दिए है।

इसे भी पढ़ें :- सायबर क्राइम ब्रांच ने Red Carpet app के माध्यम से लोन दिलवाने का झांसा देकर ठगी करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार

स्वास्थ्य मंत्री श्री सिलावट ने बताया कि जुलाई से आरम्भ इस अभियान में 10 हजार 793 से अधिक नमूने जांच के लिये भेजे गए है । बिभिन्न लैब से 3 हजार 800 से अधिक जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। 1400 से अधिक नमूने फैल पाए गए है। जिनमे 835  प्रकरण सम्बन्धित न्यायालयों में भेजे गए हैं। 4 करोड़ 56 लाख रुपए का जुर्माना अधिरोपित किया गया है, 24 करोड़ रुपए मूल्य की कीमत का दूषित मिलावटी समान की जप्ती की गई है । 25 लाख रुपए के दूषित एवम मिलावटी खाद्य पदार्थो को नष्ट कराया गया है।

इसे भी पढ़ें :- फर्जी वेबसाइट प्रकरण में प्रमुख सचिव एवं आयुक्त जनसंपर्क को दिये हाईकोर्ट ने कार्रवाई के निर्देश

प्रदेश में दूध और दूध से बने समान के 2500 से अधिक नमूने लिए गए उनकी जांच कराई जा रही है। जिनके नमूनों में मिलावट और अमानक पाए गए है उनके विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जा रही है। प्रदेश में आम जनता से मिलने वाली शिकायतों पर त्वरित करवाई कराई जा रही है। शिकायत के कुछ देर में ही खाद्य सुरक्षा विभाग के अधिकरी सेम्पलिंग की कर्रवाई कर रहे है। अभी हाल में ही राष्ट्रीय  खेल  प्रतियोगिता में आये प्रतिभागियों के लिए मप्र पर्यटन के द्वारा नाश्ता और भोजन का प्रबंध किया गया था उसकी भी  खाद्य सुरक्षा अमले से प्रतिदिन जांच कराई गई है।

इसे भी पढ़ें :- शिवराज सरकार का घोटाला : भोपाल को- ऑपरेटिव बैंक के 111 करोड़ के घोटाले में एमडी विश्वकर्मा, मैनेजर अनिल भार्गव सुभाष शर्मा गिरफ्तार

प्रदेश में बिकने वाले प्रत्येक खाद्य सामग्री की जांच के निर्देश विभाग को दिए गए है। स्वास्थ मंत्री ने बताया कि खाद्य सुरक्षा विभाग की कर्रवाई को और प्रभावी करने के लिए 5 नई प्रयोगशालायें ,,इंदौर, जबलपुर, सागर, उज्जैन  और ग्वालियर में एक साल में शुरू हो जाएगी। जिससे खाध विभाग की जांच रिपोर्ट 3 दिनों में ही प्राप्त हो जाया करेंगी। अभी 2 चलित प्रयोगशाला संचालित हो रही है राज्य सरकार 12 नवीन चलित खाध प्रयोगशाला शुरू करने का भी निर्णय लिया गया है

इसे भी पढ़ें :- लोकस्वामी अख़बार पर प्रतिबंध मामले मे दिल्ली के जंतर मंतर में प्रोटेस्ट प्रदर्शन

स्वस्थ्य मंत्री ने कहा कि प्रदेश के सभी अधिकरियों को निर्देश दिए गए हैं कि किसी भी स्थिति में मिलावट और दूषित सामग्री बेचने वाले निजी और शासकीय संस्थान, व्यवसायियों में किसी को भी नहीं छोड़ा जाए । जनता के स्वास्थ्य से खिलवाड़ करने वालों के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की जाये। हर स्तर पर यह कार्रवाई करे। भोपाल साँची दुग्ध संघ के दूध सप्लाई करने वाले टेंकरों में मिलावट करने पर टैंकर मालिक और ड्राइवर के विरुद्ध भी रासुका लगाई गई है। भोपाल संभगायुक्त ने साँची दूध संघ के गुणवत्ता प्रबन्धक और जीपीएस प्रबन्धक को भी तत्काल निलम्बित किया है।

इसे भी पढ़ें :- पशुधन बीमा योजना प्रदेश के प्रत्येक जिले में लागू पशुपालक अपने दुधारु पशुओं का बीमा करा सकेंगे, जाने पूरी योजना

प्रदेश की जनता ने शुद्ध के लिए युद्ध अभियान का समर्थन किया और भोपाल की जनता ने हजारों की तादाद में सड़क पर रैली निकालकर इस अभियान के लिये नई ऊर्जा प्रदान की है। माँ, बच्चों, बुजुर्गो और हमारी नई पीढ़ी को स्वस्थ रखने की यह मुहिम लगातार जारी रहेगी, हमारी कमलनाथ सरकार  का यह वचन है कि प्रदेश में शुद्ध के अलावा और कुछ नही बिकने देंगे और जनता के स्वस्थ की रक्षा करेंगे।

कोई जवाब दें