भ्रष्टाचार, गबन और अन्य आर्थिक अनियमितताओं में दोष सिद्ध हो चुके सेवानिवृत्त शासकीय अधिकारियों-कर्मचारियों की पेंशन से वसूला जाएं धन:- गोविंद सिंह

0
330
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

भोपाल:-  सामान्य प्रशासन मंत्री डॉ. गोविंद सिंह की अध्यक्षता में मंत्रालय में मंत्रि-परिषद की मध्यप्रदेश सिविल सेवा पेंशन नियम 1976 के अधीन मामलों के निराकरण के लिए गठित स्थाई समिति की बैठक संपन्न हुई। 

डॉ. गोविंद सिंह ने निर्देश दिये कि भ्रष्टाचार, गबन और अन्य आर्थिक अनियमितताओं में दोष सिद्ध हो चुके सेवानिवृत्त शासकीय अधिकारियों-कर्मचारियों की पेंशन से नियमानुसार शासन की राशि की वसूली की जाए। उन्होंने कहा कि दोषमुक्त हुए अधिकारी-कर्मचारी की पेंशन नहीं रोकी जाए और ना ही उसमें कोई कटौती की जाए।

 

इसे भी पढ़ें :- ब्रेकिंग न्यूज़ : उज्जैन जिले का सनसनीखेज नितेश हत्याकांड का खुलासा, देखें वीडियो

बैठक में जल संसाधन मंत्री  हुकुम सिंह कराड़ा ने दोषी अधिकारियों-कर्मचारियों की पेंशन नियमानुसार रोके जाने अथवा आंशिक कटौती करने के निर्देश दिए। वित्त मंत्री श्री तरुण भनोट तथा कृषि मंत्री श्री सचिन यादव ने भी विभागीय प्रमुख सचिवों को नियमानुसार कार्रवाई के निर्देश दिए।

इसे भी पढ़ें :- न्यायाधीश विपिन सिंह के खिलाफ दहेज प्रताड़ना का मामला दर्ज, पत्नी ने लगाए हैं गंभीर आरोप

समिति संयोजक अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन  के.के. सिंह ने प्रकरणों की जानकारी दी। प्रमुख सचिव गृह श्री एस.एन. मिश्रा द्वारा प्रस्तुत 8 प्रकरणों की समीक्षा के बाद 6 प्रकरणों में संबंधितों की आंशिक पेंशन रोके जाने तथा 2 प्रकरणों में पेंशन नहीं रोके जाने का निर्णय लिया गया।

इसे भी पढ़ें :- नटवरलाल और जनसंपर्क – पार्ट 1 : जनसम्पर्क ने किया आइसना के विज्ञापन 2 लाख का भुगतान चिटरबाज अवधेश भार्गव के हवाले

प्रमुख सचिव श्री अजीत केसरी  द्वारा प्रस्तुत सहकारिता विभाग के सेवानिवृत्ति  के बाद के तीन प्रकरणों में विभागीय जाँच की अनुमति दी गई। जल-संसाधन विभाग के तीन प्रकरणों में दोषी सेवानिवृत्त शासकीय सेवकों की पेंशन से संपूर्ण शासकीय राशि वसूल किए जाने का निर्णय लिया गया।

कोई जवाब दें