बीजेपी सरकार में विधायक मेंदोला को मंत्री नहीं बनाने पर समर्थक ने आत्मदाह की कोशिश की, वीडियो वॉयरल

0
369
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

 

इंदौर. शिवराज सिंह चौहान के मंत्रिमंडल का विस्तार होते ही मंत्री न बनाये जाने पर भाजपा के विधायक समर्थको का गुस्सा सड़क पर आ गया है.

मध्यप्रदेश की भाजपा सरकार में इंदौर से विधायक रमेश मेंदोला को मंत्री नहीं बनाने पर क्रांतिकारी युवा संगठन के अध्यक्ष एवं भाजपा नेता सुमित हार्डिया ने आत्मदाह की कोशिश की वहां मौजूद कार्यकर्ताओं ने आत्मदाह करने से रोका।

आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मंत्रिमंडल का विस्तार हो गया। भाजपा के आठ बार के विधायक और शिवराज की पिछली सरकारों में मंत्री रहे गोपाल भार्गव ने सबसे पहले शपथ ली। मंत्रिमंडल विस्तार में 20 कैबिनेट और 8 राज्यमंत्री मंत्री बनाए गए। कैबिनेट में भाजपा के 12, सिंधिया गुट के 5 और कांग्रेस छोड़कर आए 3 नेताओं को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। मंत्रिमंडल में एक नाम ना पाकर कई कार्यकर्ता दुखी और गुस्से में हैं।

वह नाम है इंदौर के दो नंबर क्षेत्र से विधायक रमेश मेंदोला का । मेंदोला को मंत्री नहीं बनाने पर जहां एक समर्थक ने आत्मदाह की कोशिश की। वहीं, कई ने सड़क पर उतरने और पार्टी छोड़ने तक की बात कह डाली है।

भाजपा नेता राजेश सिरोडकर ने सोशल मीडिया पर जाहिर की पीड़ा 

विधायक रमेश मेंदोला के मंत्री नहीं बनने से नाराज भाजपा नेता सुमित हार्डिया ने भाजपा कार्यालय पर आत्मदाह की कोशिश की। केन में केरोसिन लेकर पहुंचे हार्डिया ने दुख पर पूरी केस उड़ेल ली और आग लगाने की कोशिश की। इस दौरान वे रमेश मेंदोला के समर्थन में नारे लगाते रहे। वहां मौजूद भाजपाइयों ने उन्हें पकड़ा।

 वीडियो पर क्लिक करके देखें पूरी वीडियो ख़बर –  भाजपा नेता सुमित हार्डिया ने आत्मदाह की कोशिश की

सिरोडकर ने कहा कि हार्डिया ने दादा के मंत्री बनने को लेकर बहुत सी तैयारी कर रखी थी। साढ़े 3  बजे के करीब सूचना मिली की वह ऐसा करने वाले हैं। इस पर तत्काल हम मौके पर पहुंचे और उसे रोका। उन्होंने कहा कि हम पार्टी लाइन से चलने वाले लोग हैं।

2008 से लगातार विधायक, सबसे ज्यादा वोटों ने जीतने का रिकार्ड 

विधायक रमेश मेंदोला का नाम भाजपा के बड़े नेताओं में गिना जाता है। वे भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेहद करीबी हैं। वे इंदौर विधानसभा – 2 से 2008 से लगातार जीतते आ रहे हैं। उनके नाम मप्र में सबसे ज्यादा वोटों से जीतने का रिकॉर्ड दर्ज है। उन्होंने पिछला चुनाव 71000 से अधिक मतों से जीता था। इसके बाद भी मंत्री नहीं बनाए जाने से समर्थकों में नाराजगी है। हालांकि विधायक मेंदोला ने ट्वीट कर सभी नवनिर्वाचित मंत्रियों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी।

कोई जवाब दें