फ्रांस की राजधानी पेरिस में होगी ग्रेसिम नागदा से प्रदूषित चंबल नदी के पानी की जांच

0
250
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

ब्यूरो चीफ नागदा, जिला उज्जैन // विष्णु शर्मा 8305895567

फ्रांस की राजधानी पेरिस में होगी ग्रेसिम नागदा से प्रदूषित चंबल नदी के पानी की जांच

नागदा, 27 जनवरी की बड़ी खबर अधिमान्य पत्रकार कैलाश सनोलिया जी से मिली जानकारी के अनुसार, मशहूर बिड़ला घराना के उज्जैन जिले के नागदा स्थित ग्रेसिम उद्योग के प्रदूषण का मामला अब भारत को लांघकर सात समुंदर पार पेरिस तक जा पहुुंच है। समूचे विश्व के लोग अब प्रदूषण से प्रभावित लोगों के जीवन की कहानी को देख सकेंगे ओर पढेंगे भी।

दरअसल, ग्रेसिम उद्योग से प्रदूषित चंबल नदी के पानी की जांच अब फ्रांस की राजधानी पेरिस की प्रयोगशाला में होगी। साथ ही प्रदूषित पानी से जूझ रहे लोगों के जीवन पर एक डाक्यूमेटरी फिल्म भी बनेगी। चंबल में घुल रहे रसायनों से ग्रेसिम पर केंद्रित एक पुस्तका का भी प्रकाशन होगा। इस कार्य के लिए विश्व प्रसिद्ध फ्रांस निवासी पत्रकार एडवर्ड पैरीन के नेतृत्व में विदेशी  पत्रकारों का दल नागदा पहुंचा था और सारी जानकारियों को जुटाकर दल सोमवार को इंदौर से पेरिस के लिए हवाई यात्रा से रवाना हो गया।

फ्रांस की राजधानी पेरिस में होगी ग्रेसिम नागदा से प्रदूषित चंबल नदी के पानी की जांच

इस दल ने पांच दिनों तक गुपचुप से अपने कार्य को अंजाम दिया। पेरिस रवाना होने से पहले समाचार एजेंसी  से बातचीत में पत्रकार एडवर्ड पैरीन ने बताया कि गांव परमार खेड़ी के समीप से चंबल नदी के पानी का नमूना ले लिया गया है। साथ ही बीमारियों से प्रभावित दर्जनों लोगों की वीडियो शूटिंग का कार्य पूरा कर लिया गया है। लगभग तीन चिकित्सकों के साक्षात्कार भी लिए गए हैं और प्रदूषण से संबधित कई दस्तावेजों को जुटाया गया है।

कैसे नागदा आए विदेशी पत्रकार

नागदा के पत्रकार द्वारा ग्रेसिम से प्रदूषित पानी को लेकर कई स्टोरियों को राष्ट्रीय स्तर पर रिलीज किया गया था। इन खबरों के बाद पैरिस के पत्रकार एडवर्ड ने सीधे श्री सनोलिया से दूरभाष पर बातचीत की। तकरीबन 2 माह तक दोनों के बीच चर्चा का आदान-प्रदान हुआ। उसके बाद नागदा आने का कार्यक्रम तय हुआ। इस कार्य में इंडिया टूडे व आउट लुक पत्रिका में लेखनी चलाने वाले पत्रकार अनुपदत्ता भी सहभागी बने।

फ्रांस की राजधानी पेरिस में होगी ग्रेसिम नागदा से प्रदूषित चंबल नदी के पानी की जांच

गंदा नाला अब दिखेगा डाक्यूमेटरी में

पत्रकार दल ने गांव पारदी, परमार खेड़ी एवं नागदा शहर मेें प्रदूषण से प्रभावित बीमार लोगों से साक्ष्य जुटाए हैं। उनसे बातचीत तो की साथ ही उनकी बीमारी से संबधित दस्तावेजों का भी अवलोकन किया। ग्रेसिम उद्योग से लगातार 24 घंटे जो नाला चंबल नदी में मिल रहा है , उसकों भी अपने कैमरों में कैंद किया।

मौत के शिकार लोगों से बातचीत

ग्रेसिम उद्योग मेें दुर्घटना आदि से मौत के शिकार लोगों से दल के लोगों ने बातचीत की। न्यायालयों में प्रबंधन के खिलाफ  चल रहे प्रकरणों के दस्तावेज भी जुटाए गए हैं।

कौन है पत्रकार एडवर्ड

पत्रकार एडवर्ड ने अपनी पत्रकारिता से कई घोटालों का भंडाफोड़ किया है। एक विश्व प्रसिद्ध घोटाला उजागर करने के बाद वे प्रताडऩा के शिकार भी हुए थे। लेकिन कोर्ट से सही पाए गए। उसके बाद एडवर्ड का नाम दुनिया में जाना जाने लगा। इस पूरी कहानी को श्री सनोलिया के समक्ष पत्रकार एडवर्ड ने बयां किया।

फ्रांस की राजधानी पेरिस में होगी ग्रेसिम नागदा से प्रदूषित चंबल नदी के पानी की जांच

एक हजार पेज के दस्तावेज का अवलोकन

इस पूरी कहानी में मप प्रदूषण बोर्ड से सूचना अधिकार में उपलब्ध लगभग एक हजार दस्तावेज का सहारा भी पत्रकारों के दल ने लिया। इन दस्तावेजों में ग्रेसिम के खिलाफ  एनजीटी की रिपोर्ट, आदि शामिल है।

मशीन भी पहुंची नागदा

वातावरण की हवा को संचित  करने के लिए विदेशी तकनीकी से बनी एक मशीन भी कोरियर से यहां पहुुुची थी, जो कि श्री सनोलिया के नाम से पेरिस से यहां आई थी। बताया जा रहा है कि इस मशीन की यह विशेषता है कि वातावरण की हवा को अपने अंदर एकत्रित करती है। इस हवा में प्रदूषण की मात्रा को नापा जा सकता है।

कोई जवाब दें