फ्रांस का विरोधः मुंबई में सड़कों पर मैक्रों के पोस्टर, भोपाल में कांग्रेस विधायक की रैली, शिवराज बोले- बख्शेंगे नहीं

0
676
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 9893221036

फ्रांस में पैगंबर मोहम्मद के कार्टून और फ्रांसीसी राष्ट्रपति की टिप्पणी को लेकर मुस्लिम देशों में जारी विरोध-प्रदर्शन की आंच भारत तक पहुंच गई है। भोपाल में जहां कांग्रेस विधायक के नेतृत्व में फ्रांस के खिलाफ विशाल रैली निकाली गई, वहीं मुंबई के भिंडी बाजार में रातोंरात सड़कों पर फ्रांसिसी राष्ट्रपति के पोस्टर चिपका दिए गए। शुक्रवार सुबह वाहन मैक्रों के पोस्टर को रौंदते हुए नजर आए। इस बीच मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रैली निकालने वालों पर सख्त ऐक्शन की बात कही है। बता दें कि नीस में गुरुवार को हुए हमले पर बाकी देशों के साथ पीएम मोदी ने भी फ्रांस के साथ आतंकवाद के खिलाफ एकजुटता जताई है।

भोपाल के इकबाल मैदान में कुछ ही घंटों में जुटा ली गई सैकड़ों की भीड़

                                   bhopal5_1604041177~1

फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ भोपाल के इकबाल मैदान में बड़ी रैली निकाली गई। कांग्रेस के विधायक आरिफ मसूद ने इस रैली का आयोजन किया। सोशल मीडिया के जरिए हजारों की भीड़ इकबाल मैदान में जुटाई गई, जहां मैक्रों के पुतले जलाए गए। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना काल में बिना इजाजत इस तरह की रैली निकालने वालों पर सख्त ऐक्शन की बात कही है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘मध्य प्रदेश शांति का टापू है। इसकी शांति को भंग करने वालों से हम पूरी सख्ती से निपटेंगे। इस मामले में 188 IPC के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा, वो चाहे कोई भी हो।’

शिवराज सरकार द्वारा कार्रवाई की बात पर कांग्रेस विधायक मसूद ने रैली निकालने का बचाव किया। मसूद ने कहा, ‘फ्रांस के राष्ट्रपति ने जो हमारे धर्मगुरु और मजहब के बारे में टिप्पणी की, हमने उसका विरोध किया है। किसी का मजहब इजाजत नहीं देता कि किसी के धर्मगुरु के खिलाफ टिप्पणी की जाए। उन्होंने जो टिप्पणी की और कार्टून बनाया हमने उसका विरोध किया।’ उन्होंने कहा कि वह किसी भी कार्रवाई के लिए तैयार हैं।

 

मुंबई में सड़क पर रौंदे गए फ्रांस के राष्ट्रपति के पोस्टर

वहीं मुंबई में फ्रांस के राष्ट्रपति इम्मैन्युअल मैक्रों के खिलाफ प्रदर्शन हो रहा है। पैगंबर मोहम्मद के कार्टून को लेकर शुरू हुए विवाद और उसके बाद के घटनाक्रमों को लेकर प्रदर्शन हो रहा है। फ्रांस में हुए हमले को ‘इस्लामिक आतंकी हमला’ कहने को लेकर मैक्रों के पोस्टर को सड़क पर लगाकर उन्हें पैरों तले रौंदा जा रहा है। यह विरोध ऐसे वक्त में हो रहा है, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस के नीस शहर में हुए आतंकी हमले समेत हालिया हमलों की निंदा की है। वहीं विदेश मंत्रालय ने भी मैक्रों के ऊपर हो रहे हमलों की निंदा करते हुए कहा कि आतंक के खिलाफ लड़ाई में भारत फ्रांस के साथ है। महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी की सरकार ने मामले पर चुप्पी साध ली है।

PM मोदी बोले- आतंकवाद के खिलाफ जंग में भारत फ्रांस के साथ

पूरे मामले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस में एक गिरिजाघर में हुए हमले सहित हाल के दिनों में वहां हुई आतंकवादी घटनाओं की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत फ्रांस के साथ खड़ा है। मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘फ्रांस में आज एक गिरिजाघर में हुए हमले सहित हाल के दिनों में वहां हुई आतंकवादी घटनाओं की मैं कड़े शब्दों में निंदा करता हूं।” उन्होंने कहा, ‘‘पीड़ित परिवारों और फ्रांस की जनता के प्रति हमारी गहरी संवेदनाएं हैं। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत फ्रांस के साथ खड़ा है।”

इस बात पर शुरु हुआ विरोध

सितंबर महीने में विवादित कार्टून मैग्जीन चार्ली हेब्दो ने पैगम्बर मुहम्मद साहब का एक विवादित कार्टून एक बार फिर अपनी मैग्जीन में छाप दिया। इससे पहले साल 2015 में भी इसी कार्टून को छापने को लेकर चार्ली हेब्दो के दफ्तर पर हमला भी हुआ था। इस संबंध में 14 आरोपियों के खिलाफ मामला भी दर्ज हुआ, जिनकी हालही में सुनवाई भी शुरू होने वाली थी। लेकिन, इससे एन पहले चार्ली हेब्दो ने एक बार फिर वही कार्टून छाप दिया। विवाद तब शुरु हुआ, जब फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन इसी महीने की शुरुआत में चित्र का समर्थन करते हुए कह दिया कि, वो इस्लामिक अलगाववाद से लड़ना चाहते हैं। इस दौरान उन्होंने ये भी कहा कि, ये धर्म पूरी दुनिया में आज संकट के दौर से गुजर रहा है।

कोई जवाब दें