फंस गए नीतीश के डिप्टी CM, सुमो ने फर्जी डिग्री से पत्नी को बनवाया प्रोफेसर!

0
334
Spread the love

TOC NEWS // TIMES OF CRIME

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जीरो टॉलरेंस वाली नीति पर गंभीर और बड़ा सवाल खड़ा हो गया है. दरअसल उनके डिप्टी सीएम और भाजपा नेता सुशील मोदी की पत्नी पर फर्जी ‌डिग्री के जरिए कॉलेज में प्रोफेसर पद पाने का आरोप लगा है.

उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी की पत्‍नी जेसू जार्ज पटना के गर्वनमेंट डिग्री कालेज में प्रोफेसर हैं. अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक बिहार के स्वास्‍थ्य मंत्री और वरिष्‍ठ जेडीयू नेता रामधनी ‌स‌िंह ने आरोप लगाया है कि सुशील मोदी की पत्‍नी को फर्जी डिग्रियों के जरिए गर्वनमेंट डिग्री कालेज में प्रोफेसर की नौकरी दी गई है.

इसे भी पढ़ें :- सामुदायिक स्वास्थ्य प्रमाण-पत्र कोर्स Certificate in Community Health (CCH)

इसे भी पढ़ें :- इंस्पेक्टर चंद्रमुखी चौटाला बरसा रही है कहर मॉरीशस में

दरअसल बात उस समय की है जब बिहार के स्वास्‍थ्य मंत्री रामधनी सिंह की बेटी को फर्जी कागजातों के जरिए सरकारी अस्पताल में ग्रेड 3 की नौकरी पाने के आरोपों के बाद उन्हें इस्तीफा तक देना पड़ा था. कुछ दिन पहले ही यह आरोप सुशील मोदी समेत तमाम बीजेपी नेताओं ने लगाए थे.अब रामधनी सिंह ने पलटवार करते हुए सुशील मोदी की पत्नी जेसू जार्ज पर ही फर्जी डिग्री से नौकरी पाने के आरोप लगा दिए.

 

इसे भी पढ़ें :- शादी से बचने के लिए गर्लफ्रेंड का कराया बलात्कार, गिरफ्तार होने पर खुला राज

इसे भी पढ़ें :- मोहल्ले के हर लड़के से संबंध बनाती थी लड़की, ब्लैकमेलिंग में माहिर थी हसीना

उन्होंने दावा किया कि जल्द ही इस संबंध में सबूत वो मीडिया को देंगे. रामधनी सिंह कहते हैं कि मोदी की पत्नी का मामला पहले से ही विजिलेंस के पास है जो 90 के दशक के लेक्चरर घोटाले की जांच कर रही है. उनका कहना है कि विजीलेंस के सूत्रों के अनुसार मोदी की पत्‍नी को नौकरी फर्जी कागजातों की वजह से ही मिली है.बता दें कि जेसू जार्ज का नाम उन लोगों में शामिल था,

इसे भी पढ़ें :- खुलासा : नए उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी हैं बड़े वाले भ्रष्टाचारी, 11 हजार करोड़ के गबन का आरोप

इसे भी पढ़ें :- जेठमलानी ने जेटली को खत लिखकर किया केजरीवाल के बारे में यह खुलासा, अपशब्दों का करूं उपयोग

 

जिनकी विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग से ग्रांट पाने वाले कालेजों में फर्जी नियुक्तियों की जांच की जा रही थी. उनके राजा राम मोहन राय कालेज ऑफ एजुकेशन से मिले अनुभव प्रमाण पत्र को कथित तौर पर फर्जी बताया गया था.

इसे भी पढ़ें :- शिवराज सरकार का घोटाला : पीएचई के ईएनसी के लिये हुआ दो करोड़ का खेल ?

कोई जवाब दें