परिक्षेत्र अधिकारी के खिलाफ लामबद्ध हुये कर्मचारी तत्काल हटाने की मांग अन्यथा सौंप देगें बस्ता

0
365
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

ब्यूरो चीफ बालाघाट // वीरेंद्र श्रीवास 83196 08778

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 9893221036

दक्षिण सामान्य वन मंडल बालाघाट के अंर्तगत पूर्व लांजी में पदस्थ वन परिक्षेत्र अधिकारी एस.पी. अहिरवार को तत्काल वहां से हटाने की मांग उनके ही अधिनस्थ कर्मचारियों ने की हैं। मुख्य वन संरक्षक को अपनी शिकायत से भरा ज्ञापन सौंपकर वन परिक्षेत्र अधिकारी पर कई गंभीर आरोप लगाये हैं। साथ ही कार्यवाही नहीं होने पर कर्मचारियों ने काम नहीं करने व हड़ताल पर चले जाने की चेतावनी दी हैं।

https://www.youtube.com/watch?v=iBocqW3R9o8

इस संबंध में पूर्व लांजी के दर्जन भर से अधिक मैदानी कर्मचारियों ने वन परिक्षेत्र अधिकारी एस.पी. अहिरवार पर आरोप लगाते हुये बताया कि वह तानाशाही पूर्वक व्यवहार कर रहे और कर्मचारियों से अभद्रता करते हैं। कई अनुचित व गैर कानूनी कार्य करने के लिये बाध्य करते हैं। नहीं किये जाने या मना करने पर धमकाते रहते हैं। यह भी बताया गया कि कई बार मौखिक आदेश देकर वह मुकर जाते हैं। साथ ही आदेश के परिपालन नहीं होने पर मानसिक तौर पर प्रताड़ित करते रहते हैं। कई तरह से दबाव भी बनाया जाता हैं। अन्यथा कर्मचारियों के निलंबित करने व उनकी सीआर गलत लिखने के नाम पर धमकाते रहते हैं।

बताया कि वन परिक्षेत्र अधिकारी अपने अधिनस्थ मैदानी अमला को उनके बीट में एक भी पेड़ के ठूंठ मिलने पर निलंबित करने की धमकी देते हैं। कई बार उनसे मिलने जाने पर अमानित कर दुर्व्यवहार किया जाता हैं। जिससे अधिनस्थ कर्मचारियों में खौफ के साथ सेवा के दौरान किसी तरह की अप्रिय कार्यवाही होने का अंदेशा बन गया हैं। कर्मचारियों को अधिकारी के अधीन कार्य करने में परेशानी हो रही और वह मानसिक रूप से बैचेन रहने के लिये बाध्य हैं।

चूंकि पूर्व लांजी वन परक्षिेत्र नक्सल प्रभावित क्षेत्र हैं। जहां पर वन अमला का काम करना जोखिम भरा होता हैं। बावजूद सभी अधिनस्थ मैदानी कर्मचारी अपनी सेवा दे रहे हैं। वानिकी कार्य में अप्रिय घटना की संभावना रहती हैं। ऐसे दुरस्थ व चुनौतीपूर्ण स्थल में कार्य के दौरान वरिष्ठ अधिकारी का उत्साह मिलने के बजाय हतोत्साहित करना अनुचित व गलत कार्य के लिये निंदनीय हैं।

वन परिक्षेत्र अधिकारी को यहां से स्थानांतरित किया जाये। अन्यथा वे वहां पर उनके साथ कार्य नहीं करेगें और प्रदर्शन करने के लिये बाध्य होगें

इस संबंध में मुख्य वन संरक्षक नरेंद्र कुमार सनोडिया ने बताया कि उनके पास वन परिक्षेत्र अधिकारी अहिरवार के संदर्भ में शिकायत आयी हैं। जिसकी जांच करने हेतु साऊथ के डीएफओं को  पत्र लिखकर जांच प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के लिये कहा गया हैं। जिसके बाद ही आवश्यक कार्यवाही की जायेगी। उन्होने बताया कि कर्मचारियों ने प्रताड़ित करने सहित अन्य गंभीर आरोप लगाये हैं। जिसको लेकर ही प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के लिये कहा हैं। प्रतिवेदन मिलने पर संबंधित मामले में कार्यवाही की जायेगी।

 

कोई जवाब दें