पति की दरिंदगी की शिकार महिला के प्राइवेट पार्ट से बाइक का हैंडल निकाला, 4 घंटे हुई सर्जरी

0
535
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

इंदौर ।  पति की कथित दरिंदगी की शिकार 30 वर्षीय महिला को मंगलवार को यहां डाक्टरों ने नया जीवन दिया. यहां एक सरकारी अस्पताल में डॉक्टरों ने जटिल सर्जरी के जरिये उसके गुप्तांग से मोटरसाइकिल के हैंडल की ग्रिप निकाली.

मध्यप्रदेश के इंदौर (Indore) से एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है, जहां पर डॉक्टरों ने एक 36 वर्षीय महिला के गर्भाशय (Woman’s uterus) से बाइक के हैंडल (Bike handle) का 6-इंच लंबा हिस्सा निकाला है, जो कथित रूप से उसके पति (husband) ने 2 साल पहले गुस्से में डाला था।

इसे भी पढ़ें :- सनसनीखेज हत्याकांड : युवक की हत्या कर प्राइवेट पार्ट काटकर ले गए हत्यारे

पुलिस द्वारा बताया गया कि पीड़िता 6 बच्चों की मां है और एक बैंड वाले के पास काम करने वाले उसके पति को गिरफ्तार (Arrested) कर लिया गया है। बताया गया कि पति ने पत्नी से लड़ाई के बाद हैवानियत की सारी हदें पार करते हुए उसके प्राइवेट पार्ट (Private part) में मोटरसाइकल का हैंडल डाल दिया था। बताया गया कि पति की हैवानियत की शिकार महिला को आखिरकार अब जाकर दर्द से राहत मिली। पत्नी 2 साल असहनीय पीड़ा से गुजर रही थी।

शिकार महिला के प्राइवेट पार्ट से बाइक का हैंडल निकाला
शिकार महिला के प्राइवेट पार्ट से बाइक का हैंडल निकाला

18 डॉक्टरों ने 4 घंटे तक चले जटिल ऑपरेशन के बाद हैंडल निकाला। फिलहाल महिला के लिए अगले 72 घंटे काफी महत्वपूर्ण हैं और वो पूरी तरह डॉक्टरों की निगरानी में है। डाक्टर्स ने बताया ये हैंडल महिला के बच्चेदानी, मूत्र थैली व छोटी आंत तक पहुंच गया था। बता दें कि पीड़ित महिला अपने पति की बेवफाई से नाराज थी। उसे पति की दूसरी महिला से मेलजोल परे आपत्ति थी। इस पर पति-पत्नी में विवाद हुआ।

इसे भी पढ़ें :- रेव पार्टी पर छापा मारा और करीब 192 लोगों को गिरफ्तार, SHO पुलिस की मिलीभगत से होता था ‘जलसा’

पत्नी की रोकटोक पति को इतनी नागवार गुजरी कि उसने पत्नी को शराब पिलाकर उसके गुप्तांग में हैंडल डाल दिया। शर्म के कारण महिला ने ये घटना किसी को नहीं बताई और ऐसी ही हालत में महिला ने करीब 2 साल गुजारे। दर्द असहनीय हुआ तो शनिवार को फिर हिम्मत जुटाकर वह थाने पहुंची। उसकी हालत देख महिला आरक्षक का दिल पसीजा और वो उसे अस्पताल ले गई।

कोई जवाब दें