नशा मुक्ति केन्द्र इटारसी के विरूद्ध वृक्ष हत्या का प्रकरण दर्ज किया जाए, बैतूल जिला पर्यावरण संरक्षण समिति ने भेजा वन मंत्री को आवेदन पत्र

0
250
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 9893221036

 
बैतूल, जहां एक ओर विधायक से लेकर सासंद तक बैतूल ग्रीन के कार्यक्रम में भाग लेकर जिले का ग्रीन एवर ग्रीन बनाने के अभियान में लगे है वही दुसरी ओर कुछ लोग जान बुझ कर हरे भरे छायादार पेड़ो को निशाना बन कर उनकी असमय इहत्या कर रहे है। बैतूल जिला मुख्यालय पर अस्सी के दशक में राहगीर गांव से जब शहर की ओर आता तो वह किसी न किसी पेड़ की छांव में बैठ कर उस पेड़ की छाया और फल दोनो का आनंद उठाता था। बैतूल में आम इमली जामुन के मौसम में फलो से लदे पेड़ो को लगता है किसी की नजर लग गई है तभी तो तेजी से सुखते जा रहे पेड़ सड़को पर हवा के झोकें से या धोके से किए गए वार के कारण धड़ाम से गिर जाते है।

इस बारे में बैतूल जिला पर्यावरध संरक्षण समिति जिला बैतूल ने एक रिर्पोट तैयार की है जिसकी प्रस्तावना में इस बात का उल्लेख किया गया है। सड़को पर अतिक्रमण एवं प्रचार – प्रसार के चक्कर में इन पेड़ो को ही निशाना बनाया जा रहा है। जिस ढंग से जिला मुख्यालय के कोचिंग क्लासेस और अन्य प्रचार तंत्र से जुड़े लोग हरे – भरे पेड़ो में नुकीले किलो के सहारे अपनी प्रचार सामग्री को लगा रहे है उससे पेड़ को अकाल मौत का सामना करना पड़ा रहा है।
यह कैसा नशा मुक्ति अभियान

मध्यप्रदेश के आदिवासी बाहुल्य बैतूल जिला मुख्यालय के तीन सौ चालिस हरे भरे फलदार एवं छायादार पेड़ो पर नुकीली कीलो के सहारे नशा मुक्ति केन्द्र के पोस्टरो को लगाने के मामले में राज्य सरकार द्वारा पंजीकृत बैतूल जिला पर्यावरण संरक्षण समिति बैतूल ने प्रदेश के वनमंत्री को नशा मुक्ति केन्द्र इटारसी के संचालक एवं केन्द्र प्रभारी के विरूद्ध वृक्ष हत्या का अपराधिक मामला दर्ज करने को लेकर आवेदन पत्र भेजा है। प्रदेश के वनमंत्री को भेजे आवेदन पत्र के साथ उन छायाचित्रो को भी संलग्र किया है जिसमे दिखाई दे रहा है कि नशा मुक्ति केन्द्र इटासरी के द्वारा किस तरह नुकीली किलो से बेरहमी पूर्वक वृक्षो में पोस्टर बैनर लगाए गए है।

समिति के जिला संयोजक एवं भारत सरकार के पर्यावरण मंत्रालय द्वारा गठित बैतूल जिला पर्यावरण वाहिनी के सदस्यए राज्य सरकार के पर्यावरण मंत्रालय की सहयोगी संस्थान इप्को के पर्यावरण सरंक्षण दल के जिला संयोजक पर्याविद रामकिशोर पंवार ने पूरे मामले में उचित कार्यवाही न किए जाने पर न्यायालय की शरण लेने की बात कहीं है। श्री पंवार के अनुसार इटारसी की नशा मुक्ति केेन्द्र के द्वारा पेड़ो में नुकीली किलो को बेरहमी से ठोकने के कारण कई हरे . भरे पेड़ सुखने लगे है। श्री पंवार ने इस बात पर भी चिंता व्यक्त की है कि पौधो को पेड़ बनाने में लगे सरकारी एवं स्वंय सेवी संगठन का इस ओर

बेरूखी पन भी किसी बड़ी साजिश का हिस्सा हो सकता है।

सुभ्रदा चिकित्सालय के पास मोटाम कम करवाने का दावा करने वाले स्लिम सेंटर के संचालक ने अपने प्रचार तंत्र के लिए पेड़ो को निशाना बनाया है। खुद का मोटापा दूर होता नहीं और चले पेड़ो का मोटापा कम करने के लिए उसमें नुकीले कीलो को ठोकने के लिए। 30 दिनो में 10 किलो वजन कम करने वाले इस स्लीम सेंटर के संचालक के विरूद्ध भी वृक्ष हत्या का मामला दर्ज हो इसको लेकर समिति की ओर से एक मांग पत्र श्री कुंवर विजय शाह को भेजा गया है। श्री शाह को भेजे पत्र में वीडियों एवं छायाचित्रो के संग ऐसी संस्थाओ को मिल रहे राजनैतिक एवं विभागीय संरक्षण का भी जिक्र किया गया है। पर्याविद रामकिशोर पंवार ने कहा कि जिले के कुछ पर्याविदो को जंगल में हो रहे अतिक्रमण चिंता है लेकिन जिला मुख्यालय पर कलैक्टर के कार्यालय के पास पेड़ो पर ठोंकी गई नुकीली किलो को देखने के बाद जिला कलैक्टर से लेकर जिला सरकार के सौ सवा सौ अधिकारी कर्मचारी लगता है कि मोटापा कम करने वालो की या फिर बवासीर का शर्तिया इलाज का दावा करने वाले डाँ राय साहब की स्पेशल सेवाए ले रहे है या उनके अपने ही सगे संबधी है जिन पर वे नकेल डालने मे सक्षम दिखाई नहीं दे रहे है।

 

कोई जवाब दें