धूमधाम से निकली भगवान महाकाल की चौथी सवारी, भगवान मनमहेश पालकी में एवं चंद्रमौलेश्वर हाथी पर सवार होकर अपने भक्‍तों के साथ भ्रमण पर निकले

0
333
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

ब्यूरो चीफ नागदा, जिला उज्जैन // विष्णु शर्मा 8305895567

श्रावण के चौथे सोमवार पर भगवान महाकालेश्‍वर की सवारी परम्परा अनुसार धूमधाम से निकाली गई। पालकी में मनमहेश के रूप में तथा हाथी पर चंद्रमौलेश्वर के स्‍वरूप में विराजित भगवान शिव नगर भ्रमण पर निकले।

जैसे ही सवारी मन्दिर परिसर के बाहर निकली सशस्त्र पुलिस द्वारा सलामी दी गई। सवारी के आगे-आगे मार्ग में राजाधिराज महाकाल के आगमन की सूचना देने के लिये तोपची द्वारा कड़ाबीन के धमाके किये जा रहे थे। भगवान महाकालेश्वर की चौथी सवारी कोरोना संक्रमण के मद्देनजर परिवर्तित मार्ग से निकाली गई। महाकालेश्वर मन्दिर से सवारी हरसिद्धि मन्दिर के सामने से होकर नृसिंह घाट के निकट झालरिया मठ से होती हुई रामघाट पहुंची।

रामघाट पर भगवान महाकालेश्वर का मां शिप्रा के पवित्र जल से विधिवत पूजन-अर्चन किया गया एवं आरती की गई। सवारी परिवर्तित मार्ग से होती हुई हरसिद्धि मन्दिर मार्ग पहुंची। हरसिद्धि मन्दिर आगमन पर मन्दिर के पुजारियों द्वारा भगवान महाकालेश्वर की आरती की गई। यहां से भगवान महाकाल की सवारी पुन: महाकालेश्वर मन्दिर पहुंची।

वीडियो ख़बर : लिंक पर क्लिक करके पढ़ें पूरी खबर ...

वीडियो पर क्लिक करके देखें पूरी वीडियो ख़बर …

रामघाट पर विधायक श्री रामलाल मालवीय, श्री महेश परमार, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री करण कुमारिया, आईजी श्री राकेश गुप्ता, डीआईजी श्री मनीष कपूरिया, कलेक्टर श्री आशीष सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री मनोज सिंह, नगर निगम आयुक्त श्री क्षितिज सिंघल सहित पुलिस एवं प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

इसके पूर्व सभामंडप में पूजन-अर्चन शासकीय पुजारी पं.घनश्‍याम शर्मा द्वारा संपन्‍न कराया गया। सर्वप्रथम भगवान श्री महाकालेश्‍वर का षोडशोपचार से पूजन-अर्चन किया गया। इसके पश्‍चात भगवान की आरती की गई। पूजन में पुलिस अधीक्षक श्री मनोज सिंह, अपर कलेक्टर श्री अवि प्रसाद एवं श्री महाकालेश्वर मन्दिर प्रबंध समिति के प्रशासक श्री एसएस रावत शामिल हुए। इस अवसर पर महन्त विनीत गिरीजी महाराज, एडीएम श्रीमती बिदिशा मुखर्जी मौजूद थे। पूजन के पश्चात कंधा देकर पुलिस अधीक्षक श्री मनोज सिंह एवं अपर कलेक्टर श्री अवि प्रसाद एवं श्री एसएस रावत ने पालकी को आगे बढ़ाया।

कोई जवाब दें