दो साल से जबरन यौन शोषण कर रहा था संपादक! 24 वर्षीय महिला पत्रकार ने कर दी हत्या

0
326
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

मुंबई की एक मासिक समाचार पत्रिका ‘इंडिया अनबाउंड’ के संपादक की बेरहमी से की गई हत्या की गुत्थी सुलझ गई है। वह पिछले 15 मार्च से लापता थे, उसी दौरान परिजनों द्वारा उनके लापता होने की शिकायत संबंधित थाने में दर्ज कराई गई थी।

इस मामला का खुलासा करते हुए मुंबई पुलिस ने इसी मैग्जीन में कार्यरत ट्रेनी महिला पत्रकार और मैग्जीन के प्रिंटर को गिरफ्तार कर लिया है। बताया जा रहा है कि महिला पत्रकार दो साल से कथित तौर पर यौन शोषण से त्रस्त थी। मृतक संपादक की पहचान 44 साल के नित्यानंद पांडे के तौर पर हुई है।

संपादक नित्यानंद पांडे की हत्‍या उसकी महिला सहायक ने अपने देहशोषण के चलते कराई है। ये सनसनीखेज खुलासा महाराष्‍ट्र पुलिस ने किया है। पुलिस ने दावा किया है कि संपादक नित्यानंद पांडे की हत्या उन्हीं की 24 वर्षीय महिला सहायक अंकिता ने अपने साथी मैगजीन के प्रिंटर सतीश मिश्रा से मिलकर की थी। पुलिस के मुताबिक, अंकिता और उसके साथी सतीश मिश्रा ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है।

पुलिस को दिए अपने बयान में अंकिता ने आरोप लगाया है कि पांडे कई महीनों से जबरन उसका शारीरिक शोषण कर रहा था। समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, ठाणे ग्रामीण अधीक्षक डॉ. शिवाजी राठौड ने बताया कि ‘इंडिया अनबाउंड’ के संपादक नित्यानंद पांडे का शव भिवंडी के खरबू के खार्डी गांव में नाले के पास मिला था। पांडे पिछले 15 मार्च से ही गायब थे और उनके परिवारवालों ने काशीमीरा थाने में गुमशुदगी की एक शिकायत दर्ज कराई थी।

उन्होंने बताया कि अंकिता तीन साल से पांडे के साथ काम कर रही थी और उसने आरोप लगाया है कि वह दो साल से यौन उत्पीड़न का सामना कर रही थीं। इसके बाद ही उसने सतीश मिश्रा के साथ मिलकर नित्यानंद की हत्या करने की यह खतरनाक साजिश रची। पुलिस ने बताया कि दोनों आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 (हत्या) और 201 (सबूत मिटाने) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

बकौल पुलिस, अंकिता ने यौन उत्पीड़न की शिकायत पुलिस में इसलिए नहीं की, क्योंकि उसे लगता था संपादक के प्रभाव में मामले में कोई कार्रवाई नहीं होगी। आखिरकार उसने नित्यानंद की हत्या की साजिश रची। मामले के दूसरे आरोपी सतीश के यहां नित्यानंद की मासिक पत्रिका की छपाई होती थी। उसने पत्रिका छपाई का तीन महीने का भुगतान सतीश को नहीं दिया था। पैसे मांगने पर वह बदतमीजी करने लगता था, इसी बात को लेकर सतीश के मन में खुन्नस थी।

ठाणे के पुलिस अधीक्षक शिवाजी राठौड़ ने सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि यह हत्या पिछले दो साल से पांडे द्वारा आरोपी महिला का कथित तौर पर किए जा रहे यौन उत्पीड़न का परिणाम था। राठौड़ ने मीडियाकमिर्यो से कहा कि जांच के आधार पर हमने पांडे की सहायक के तौर पर काम करने वाली अंकिता मिश्रा और प्रिंटिंग प्रेस चलाने वाले सतीश मिश्रा को गिरफ्तार किया है। इसी प्रिटिंग प्रेस में पांडे की पत्रिका प्रकाशित होती थी।

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

कोई जवाब दें