दिल्ली के बाद हिमाचल में ‘निर्भया’ जैसा कांड, न्याय की खातिर सड़कें जाम

0
89
Spread the love

TOC NEWS

शिमला। शिमला के कोटखाई में छात्रा से हुए बलात्कार और हत्या के मामले में 6 दिन बाद पुलिस की ओर से कोई प्रगति न होने की वजह से लोगों में गुस्सा सड़कों पर आ गया है। कोटखाई से लेकर शिमला तक लोग अंदोलित हैं लेकिन सरकार खामोश है। आरोपियों के न पकड़े जाने के विरोध में सोमवार कोटखाई बाजार बंद है। स्थानीय लोग सडक़ों पर निकल विरोध प्रर्दशन कर रहे हैं।

मामले को लेकर लोग राज्यपाल आचार्य देवव्रत से भी मिलेंगे, उनसे मदद की गुहार लगाएंगे। कोटखाई के लोग दोषियों को जल्द पकड़ने की मांग कर रहे हैं। शिमला में भी लगातार इसके विरोध में प्रर्दशन हो रहे हैं और कैंडल मार्च निकाला जा रहा है। वहीं ये मामला सोशल मिडिया में खासा सुर्खियों में है। गम व गुस्से में लोग पुलिस को कोस रहे हैं।

दिल्ली के बाद हिमाचल में 'निर्भया' जैसा कांड, न्याय की खातिर सड़कें जाम के लिए चित्र परिणाम

इसे भी पढ़ें :- राखी सावंत ने योगी आदित्यनाथ को बता दिया चरवाहा, कहा- नहीं हैं सीएम बनने योग्य

इसे भी पढ़ें :- ‘गुजरात में तड़ीपार थे अमित शाह और हजारों लोगों की जान लेकर प्रधानमंत्री बने हैं मोदी’

आम तौर पर हिमाचल को देवभमि के नाम से ही जाना जाता रहा है। लेकिन कोटखाई की घटना ने प्रदेश की इस उपलब्धि को छीन लिया है। लोगों में गुस्सा है और परिजन सदमे में हैं।

दिल्ली के बाद हिमाचल में 'निर्भया' जैसा कांड, न्याय की खातिर सड़कें जाम के लिए चित्र परिणाम

कोटखाई की दर्दनाक हादसे की सूचना मिलने के बाद जनता का गुस्सा सोशल मीडिया पर भी दिख रहा है। लोग मांग कर रहे हैँ कि गुड़िया के हत्यारों को फांसी की सजा दी जाए। लोगों ने सोशल मीडिया पर जस्टिस फॉर गुड़िया नाम से अभियान चलाया है। लोगों का आक्रोश फेसबुक, व्हाट्सएप आदि सोशल मीडिया समूहों पर देखने को मिल रहा है। कुछ लोगों ने तो जस्टिस फॉर गुड़िया नाम से इस संबंध में तमाम वर्गों से आगे आने की भी अपील भी की है।

 

इसे भी पढ़ें :- नीतीश कुमार का यू-टर्न – चुनाव में मोदी का नहीं विपक्ष का देंगे साथ, मुश्किल में बीजेपी

इसे भी पढ़ें :- झूठे केस में बरी होने से खुश हो गए संत आसाराम, भक्तों के लिए खुशखबरी

इस निर्मम घटनाक्रम के बाद हिमाचल प्रदेश ही नहीं बल्कि राज्य के बाहर रह रहे लोग भी हतप्रभ हैं। फेसबुक और व्हाट्सएप पर तो इस संबंध में इस छात्रा को इंसाफ दिलाने के लिए मुहिम छिड़ गई है। युवाओं से लेकर बुजुर्ग तक एक ही सुर में कह रहे हैं कि इस जघन्य अपराध को अंजाम देने वालों को केवल फांसी होनी चाहिए। कई लोग तो भावावेश में यहां तक कमेंट कर रहे हैं कि ऐसे अपराधियों को पकड़कर उनकी बोटी-बोटी काट डाली जाए। कुछ लोग तो जुर्म करने वालों को जिंदा दफन करने की भी बात कर रहे हैं।

पुलिस की ओर से अभी तक अपराधियों के पकड़े नहीं जाने का आक्रोश भी सोशल मीडिया पर दिख रहा है। वहीं मृतक छात्रा के माता-पिता बेहद सदमे में हैं। रोते हुए लड़की के पिता ने कहा कि उन्हें क्या मालूम था कि ये दिन भी देखना पड़ेगा। उन्होंने मांग की है कि पुलिस जल्द दरिंदों को पकड़े। उसके बाद कानून अपना काम करे। हत्या के बाद गांव में मातम का माहौल है।

 

इसे भी पढ़ें :- GST के विरोध में 75,000 व्यापारियों ने BJP से दिया इस्तीफा

इसे भी पढ़ें :- इज़राइल में राष्ट्रगान का हुआ अपमान, भारतीयों ने ही की गलती

एसआईटी का गठन कर हो मामले की जांच

उधर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कुलदीप राठौर ने कहा कि इस मामले की जांच को लेकर स्पेशल इंवेस्टिगेटिंग टीम (एस.आई.टी.) का गठन किया जाना चाहिए ताकी दोषियों को जल्द से जल्द बेनकाब किया जा सके। भारत की जनवादी नौजवान सभा के राज्याध्यक्ष कपिल भारद्वाज ने इस हैवानियत भरी घटना को लेकर गहरा रोष प्रकट किया है।

दिल्ली के बाद हिमाचल में 'निर्भया' जैसा कांड, न्याय की खातिर सड़कें जाम के लिए चित्र परिणाम

इस बीच प्रदेश भाजपा ने इस मामले में सरकार को घेरते हुए कहा है कि कोटखाई में दसवीं की छात्रा के साथ हुआ बलात्कार और उसके बाद उसकी निर्मम हत्या हिमाचल के निर्भया कांड से कम नहीं है। इस घटना से साबित होता है कि हिमाचल प्रदेश में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं रही। प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष गणेश दत्त ने कहा कि ऐसी अमानवीय घटना देवभूमि को कलंकित ही नहीं कर रही बल्कि सरकार की कार्यप्रणाली पर कई सवाल खड़े कर रही है, क्योंकि 5-6 दिन बीत जाने पर भी अपराधियों का कोई अता-पता नहीं है।

इसे भी पढ़ें :- झाड़ियों में मिला विवाहिता का अर्धनग्न शव, शराब की थी शौकीन

इसे भी पढ़ें :- घूस लेते इनकम टैक्स अधिकारी को CBI ने रंगे हाथों धरदबोचा

इस प्रकार की घटनाएं रोज घट रही हैं। टुटू के पास एक महिला की गिरकर मौत की खबर और उसके परिजनों द्वारा हत्या की साजिश जाहिर करना भी पुलिस प्रशासन की कार्यप्रणाली पर प्रश्न खड़े करता है। गणेश दत्त ने पुलिस प्रशासन से मांग की है कि वो अपराधियों को शीघ्र पकड़े व फास्ट ट्रैक कोर्ट में मामले की सुनवाई हो।

इसे भी पढ़ें :- शिवराज सरकार की पोल खोलकर रख दूंगी: कोमल पांडे

इसे भी पढ़ें :- संजय दत्त की पत्नी एडल्ट फिल्मों में की है काम, बनना चाहती थी एक्ट्रेस

कोई जवाब दें