दारोगा ने FB पर विधवा से दोस्ती कर की शादी फिर घर पर रखने से किया इंकार

0
339
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

कानपुरः उत्तर प्रदेश पुलिस विभाग में तैनात एक दारोगा तीन साल तक खुद को अनमैरिड बता कर विधवा महिला का शारीरिक शोषण करता रहा । जब महिला ने दारोगा पर शादी का दबाव बनाया तो उसने आर्य समाज मंदिर पर शादी कर ली और फिर अपने साथ सरकारी आवास पर रखने लगा ।

महिला का आरोप है कि दरोगा मुझे मायके पर छोड़ गया इसके बाद से उसने मुझसे बात करना बंद कर दिया । जब मै दारोगा के घर पहुची तो मुझे पता चला कि वो पहले से शादीशुदा था। मुझे उसके घर वालो ने धक्का मार कर घर से निकाल दिया । इसके साथ ही दारोगा ने भी मुझे अपने साथ रखने से इंकार कर दिया ।

कानपुर देहात के रसूलाबाद थाने में तैनात दारोगा अमर सिंह मूल रूप से फतेहपुर जनपद के रहने वाले है । दारोगा अमर सिंह की फेसबुक पर सीतापुर की रहने वाली अंजू शुक्ला से हुई थी । दोनों के बीच मोबाइल फोन पर बात होने लगी इसके बाद उनका मिलना जुलना शुरू हो गया ।

पीड़िता ने बताया कि मेरी एक शादी पहले हो चुकी थी और मेरे दो बच्चे भी है । मेरे पहले पति की मौत एक रोड एक्सीडेंट में हो गई थी । उनकी मौत के बाद मेरी दोस्ती फेसबुक पर दारोगा अमर सिंह से हुई है ।हम लोगो को बात चीत होने लगी , अमर सिंह ने मुझे शादी के लिए प्रपोजल दिया । इसके लिए वो मेरे घर भी आया और मेरे परिवार से मिला । मैंने अमर सिंह को अपने विषय में सब कुछ बता दिया था और अपने दोनों बच्चो से भी मिलवाया था ।

अमर ने मेरे परिजनों से कहा था मुझे इससे कोई एतराज नही है कि अंजू की शादी हो चुकी है और उसके बच्चे है । मेरी अभी तक शादी नही हुई और मै अंजू से शादी करना चाहता हूँ । इसके बाद लखनऊ में बीते 17 मई 2018 को आर्य समाज मंदिर में शादी कर ली । इस शादी के बाद मै 6 माह तक अमर के साथ उसके सरकारी क्वार्टर में रहने लगी ।

अमर सिंह ने मुझसे कहा कि एक सरकारी काम के सिलसिले में बाहर जाना है । मुझे मायके पर छोड़ दिया और कहा कि 13 नवंबर 2018 तक वापस लेने आऊंगा । इसके बाद से अमर ने अपना मोबाइल फोन बंद कर लिया। उसने मुझसे बात करना बंद कर दिया मैंने बहुत प्रयास किया लेकिन अमर का कही कुछ पता नही चला । मै अमर सिंह गांव पहुच गई जहा मुझसे पता चला की वो पहले से शादी शुदा है । जब मैंने अमर के परिजनों को पूरी बताई तो उन्होंने मुझे घर से बाहर निकाल दिया । मुझे जान से मारने की धमकी दी झूठे केस में मुकदमा कराने की धमकी देने लगे ।

पीड़िता का कहना है कि मैंने पुलिस विभाग के सभी अधिकारियो से मिलकर अपनी समस्या बता चुकी हूँ । कानपुर देहात के एसपी से भी मुलाकात कर चुकी हूँ । लेकिन मेरी कही भी सुनवाई नही हो रही है मुझे न्याय चाहिए ।

कोई जवाब दें