दबंगों ने रास्ता बंद कर नहर की जमीन पर अतिक्रमण किया, खेतो पर जाने का रास्ता रोका, अतिक्रमण हटवाने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

0
315
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

ब्यूरो चीफ गाडरवाराजिला नरसिंहपुर // अरुण श्रीवास्तव : 91316 56179

सिहोरा / बोहानी। शासन द्वारा खेत खेत पानी पहॅुचाने के लिये नहरों का निर्माण किया गया है। किन्तु गॉवों के  किसान चंद्रकुमार सुरैया द्वारा अपनी हेकडी बताते हुये लोगें को परेषान किया जा रहा है।
इनके द्वारा माइनर से होते हुये किसानों को अपने खेतों तक जाने का रास्ता है लेकिन चंद्रकुमार सुरैया द्वारा बोहानी माइनर पर बाड लगाकर रास्ता बंद कर नहर की जमीन पर अतिक्रमण कर लिया है। ज्ञात हो कि उक्त माइनर से होते हुये अनेक किसान अपने खेतों तक कृषि कार्य हेतु आते जाते हैं। बाड लग जाने के कारण किसान अपने खेतों तक नहीं पहॅुच पा रहे हैं जिससे उनके खेत खाली पडे है और कृषि कार्य नहीं हो पा रहे हैं।
इसी बात के लेकर गत दिनों उक्त माइनर से जुडे हुये किसान जसवंत नगपुरिया,सुदर्षन पेठिया, उषापेठिया, रमेष गिरी, हरीष गिरी, संजय काछी, प्रभात नगपुरिया, रमेष पेठिया, मुन्ना कुषवाहा, कपिल पेठिया, सतीष पेठिया, अरविंद पेठिया, माया काछी, भीष्म गिरी, हेमराज पटैल, भानू ठाकुर आदि ने कलेक्टर को आवेदन सौपते हुये मांग की है कि गॉव के बडे किसान चंद्रकुमार सुरैया द्वारा हम लोगें के खेत तक आने जाने का मार्ग बाड लगाकर बंद कर दिया है। आवेदन में कहा गया है कि उक्त किसान से बाड न लगाने के लिये कहा गया तो वह गाली गलौच कर झूठे प्रकरणों में फंसाने की धमकी दे रहा है।
सभी पीडित कृषकों ने मांग की है कि चंद्रकुमार सुरैया को तुरंत बाड हटाने के लिये कहा जाये तथा उनके खिलाफ कार्यवाही की जावे। तथा वर्तमान में धान की फसल खेतों में लगाई जा रही है। खेतों  तक जाने का रास्ता बंद हो जाने के कारण से किसान अपने खेतों में फसलें नहीं लगा पा रहा है और चंद्रकुमार सुरैया अपनी हेकडी पर अडे हुये हैं।  वह बाडी हटाने क लिये तैयार नहीं है। सभी किसानों द्वारा कलेक्टर को आवेदन दिया गया इसके बाद भी आज तक कोई कार्यवाही नही की गई है जिससे किसानों में काफी रोष है।
बोहानी माइनर अध्यक्ष संतोष शर्मा का कहना है –
उक्त मामला अतिक्रमण का है। मेरी जानकारी में आया है। इस बाबत् उच्चाधिकारियों को भी अवगत कराया गया है। तथा नहर पर अतिक्रमण करना अथवा रास्ता रोकना कानूनी रूप से गलत है।
नहर विभाग के ई. साहब मालवीय का कहना है –
यदि किसी किसान द्वारा नहर की जमीन पर अतिक्रमण किया जाता है तो उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज की जावेगी।

कोई जवाब दें