थप्पड़ मारने वाली कलेक्टर को बचाने डीजीपी को हटा रहे मुख्यमंत्री कमलनाथः विष्णुदत्त शर्मा

0
661
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

भोपाल। राजगढ़ की कलेक्टर ने सिर्फ भाजपा कार्यकर्ताओं और आम नागरिकों से ही बदसलूकी नहीं की थी, बल्कि एक एएसआई को भी थप्पड़ मारा था। पुलिस महकमे द्वारा कराई गई जांच में यह आरोप सही पाया गया था और डीजीपी श्री.वी.के.सिंह ने इस मामले में कार्रवाई के लिये गृह सचिव को पत्र भी लिखा था।

यदि श्री वी.के.सिंह ही डीजीपी रहते, तो कलेक्टर निधि निवेदिता के खिलाफ कार्रवाई होना तय थी। ऐसे में कलेक्टर को बचाने के लिए ही मुख्यमंत्री कमलनाथ एक कर्त्तव्यनिष्ठ अधिकारी की बलि ले रहे हैं। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश महामंत्री व सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा ने प्रदेश के डीजीपी श्री वी.के.सिंह को हटाए जाने से संबंधित समाचारों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कही।

श्री विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि कमलनाथ सरकार के लिये अधिकारियों की ईमानदारी, कर्त्तव्यनिष्ठा या उनकी कार्यक्षमता कोई मायने नहीं रखती। इस सरकार में यही बात मायने रखती है कि किसी अफसर के सिर पर किस कांग्रेस नेता का हाथ है और वह अफसर सारी नैतिकता और कायदे-कानून को ताक पर रखकर जी-हुजूरी करने की क्षमता रखता है या नहीं।

अफसरों की पदस्थापना का मापदंड भी यही है और उनकी योग्यता को मापने का पैमाना भी यही है। सरकार की सोच का असर पूरे प्रदेश में प्रशासनिक अराजकता के रूप में दिखाई दे रहा है। कहीं, एक डिप्टी कलेक्टर, कलेक्टर पर बंधक बनाने का आरोप लगाता है, तो कहीं एसडीएम अपने ही दफ्तर पर हमला कराता है।

श्री विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि प्रदेश में पहले ही अपराध और अपराधियों का बोलबाला है। ऐसे में डीजीपी श्री सिंह को हटाने से पुलिस महकमे के मैदानी अफसरों का मनोबल टूटेगा, जिसका खामियाजा प्रदेश की जनता को भुगतना होगा। लेकिन कांग्रेस नेताओं और अपने वफादार अफसरों को उपकृत करने में लगी कमलनाथ सरकार को प्रदेश की कोई चिंता नहीं है।

कोई जवाब दें