तो क्या अब हिंडाल्को ऐशडेंम टूटने को है ? रिसाव से जन-जीवन हो रहा प्रभावित

0
296
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

जिला ब्यूरो चीफ सिंगरौली  // नीरज गुप्ता  7771822877 

सिंगरौली जिले में अब चौथ ऐशडेम टूटने की सम्भावना तेज हो गई हैं | हिंडाल्को इंडस्ट्रीज लिमिटेड के महान एल्युमिनियम पावर प्लांट बरगवां के ऐशडैम ओडगड़ी का रिसाव तेजी से गांव की ओर समा रहा है | जिससे अब खेत खलिहान ही नहीं बल्कि जन-जीवन भी प्रभावित हो रहा है |

विश्वस्त सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार हिंडाल्को महान एल्युमिनियम के ऐशडैम स्थल के बाहर बने कंपनी के बाउंड्री की ओर आम रह वाशियो के बस्ती में ऐशडैम का जहरीला पानी का रिसाव हो रहा, उक्त रिसाव से खेतों की मिट्टी तथा ग्राम वासियों की बस्ती में ऐशडैम का जहरीला पानी के रिसाव से खेतों की मिट्टी तथा भू-जल भी प्रभावित हो रहे हैं |

नागरिकों की जान सासत में

ऐशडैम से जहरीले पानी के रिसाव गांव की बस्ती में तेजी से हो रहा है | जो खेतों के रास्ते जमी पर फ़ैल रहा हैं | जो काफी जहरीला एवं प्रदूषित होता हैं | वह तेजी से गांव के जल (पेयजल) में समा कर आम जन की जान सासत में डाल रहा हैं |

सुनहरे सपने हुए चकनाचूर

आम लोगों के विकास करने का सुनहरा सपना दिखाकर स्थापित हुयी महान एल्युमिनियम परियोजना अब पूरी तरह बदल गयी | अब अपने कमाई के चक्कर में परियोजना प्रबंधक आम जनता को परियोजना से होने वाली परेशानियों से कोई मतलब नहीं होता दिख रहा है | जिसके कारण परियोजना प्रबंधक पूरी तरह मन मर्जी पर आमादा हैं |

शिकायते हो रही अनसुनी

परियोजना से प्रभावित विस्थापित नारायण दास विश्वकर्मा सहित अनेक नागरिकों ने बताया कि परियोजना प्रबंधक को बार-बार शिकायत देने के बाद भी समस्याओं के निपटारे को कौन कहे उन्हें डाट-डपट कर भगा दिया जाता है |और पूरी तरह परियोजना प्रबंधक सिर्फ और सिर्फ सी0एस0आर0 हेड यशवंत कुमार के इशारे पर चल रहा हैं | जो करते कम है और दिखाते ज्यादा है | जो लोकल मठाधीशों में पैठ बनाकर विस्थापितों को दर किनार कर मनमानी करने में सफल हैं |

प्रशासन की नहीं चलती

शिकायत के अनुसार इस परियोजना से संबंधित तत्थों पर आम जन की सुनवाई लगातार उपेक्षित रहती है | यदि किसी शिकायत के संबंध में प्रशासन ने निराकरण कर आदेश जारी कर भी दे तो हिंडाल्को महान परियोजना प्रबंधक मानने को तैयार नहीं होता जिसके अनेक उदाहरण हैं |

तो क्या ऐशडैम के रिसाव से नही मिलेगी मुक्ति

ऐशडैम से लगातार हो रहे प्रदूषित जल के रिसाव को रोकने के लिए परियोजना प्रबंधक चिन्हित नहीं हैं | और लगातार बढ़ रहे रिसाव को किस तरह परियोजना प्रबंधक देख रहा हैं | यह तो पता नहीं पर दूरगामी परिणाम विध्वंशक हो सकता हैं | क्योंकि ऐशडैम के इर्द-गिर्द गांवों में बस्ती हैं | और कृषि योग्य भरपूर भूमि जो चिंताजनक हैं | इस पर जिला प्रशासन क्या करता हैं इस पर सबकी होगी नजर |

इनका कहना हैं :-

पत्रकार नीरज गुप्ता द्वारा हिंडाल्को के CSR प्रमुख यशवंत कुमार से मामले के संबंध में जानकारी के बावत कई बार फोन किया गया | परन्तु यशवंत कुमार पत्रकार का फोन तक नहीं उठाया गया |

कोई जवाब दें