चलती ट्रेन मे बच्ची ने लिया जन्म, नागदा जीआरपी की मदद से महिला को पहुचाया अस्पताल

0
986
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

ब्यूरो चीफ नागदा, जिला उज्जैन // विष्णु शर्मा 8305895567

नागदा। सोयाबीन की फसल कटाई का कार्य खत्म कर अपने मायके लौटे रही झाबुआ जिले की रहने वाली महिला मजदूर को चलती ट्रेन में प्रसव पीडा होने लगी और महिला ने ट्रेन में ही एक बच्ची को जन्म दे दिया ।

नागदा रेल्वे स्टेशन पर महिला को जीआरपी पुलिस एव रेलवे के ही स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने उतारकर सिविल अस्पताल भेज दिया । जहां पर चिकित्सकों ने महिला व नवजात शिशु की जांच की, चिकित्सक के मुताबिक मा और बच्चा दोनो स्वस्थ्य हैं ।

इसे भी पढ़ें :- फिल्म “मक्खी” में एक खलनायक की भूमिका निभाने के बाद, किचा सुदीप अब दबंग 3 में विलन की भूमिका के साथ दिल जीतने के लिए है तैयार!

कोटा में सोयाबीन कटाई का कार्य कर अपनी माता मुन्नी बाई के साथ अपने मायके पंचपिपलिया तहसील थांदला जिला झाबुआ लौट रही पुष्पा पति सुरेश ने मरुसागर एक्सप्रेस में नवजात बच्ची को जन्म दे दिया ।

दोनों मा बेटी दोपहर 1:30 बजे कोटा से अपने गांव थांदला जाने के लिए ट्रेन क्रं 12978 मरुसागर सुपरफास्ट में सवार हो रही थी । कोटा से ट्रेन के चलते ही पुष्पा को प्रसव पीड़ा होने लगी ।

इसे भी पढ़ें :- लेन्सेक्स उद्योग से एसिड भर कर जा रहा टेंकर पल्टा, शराब के नशे में क्लीनर चला रहा था एसिड से भरा टैंकर

किन्तु ट्रेन सुपर फास्ट होने के कारण छोटे स्टेसनो पर स्टापेज नहीं होने के कारण महिला व उसकी मां कही उतर ही नहीं पाये। आलोट स्टेशन के समीप पुष्पा को प्रसव हो गया । उसके बाद नागदा में ट्रेन के रुकते ही महिला व उसकी मां को जीआरपी द्वारा उतार कर सिविल अस्पताल पहुंचाया गया। जब मुन्नी बाई से पुछा गया तो बताया कि पुष्पा को शुक्रवार सुबह से ही दर्द हो रहा था । जिसकी वजह से वह पुष्पा को अपने घर ले जाने के लिए ट्रेन में बैठी थी।

इसे भी पढ़ें :- केंद्रीय मंत्री के बिगड़े बोल, कहा- युवाओं को ‘नौकरी’ देने का हमने ठेका नही ले रखा रखा है

प्रसूता की मां मुन्नी बाई का कहना है कि, वह कोटा से रतलाम की ओर जाने वाली मरुसागर एक्सप्रेस में बैठे थे। सुबह से ही प्रसव पीड़ा हो रही थी। जब आलोट स्टेशन के पास ट्रेन पहुंची तो दर्द अधिक होने लगा और उसने ट्रेन में ही बच्ची को जन्म दे दिया ।सुपर फास्ट ट्रेन होने के कारण ट्रेन कही रुकी ही नही जिसकी वजह से प्रसूता को उपचार के लिए कहीं ले जा ही नही सकी । फिलहाल जच्चा-बच्चा का उपचार सिविल अस्पताल नागदा में चल रहा है ।

कोई जवाब दें