चंदन तस्कर वीरप्पन को मारने वाले विजय कुमार हो सकते हैं जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल

0
671
Spread the love

Times of Crime @ www.tocnews.org

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

नई दिल्ली:  जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल (एल-जी) के पद के लिए पूर्व आईपीएस अधिकारी के विजय कुमार और आईबी के पूर्व निदेशक दिनेश्वर शर्मा का नाम आ रहा है. के विजय कुमार साल 2004 में स्पेशल टॉस्क फॉर्स के चीफ थे और उनकी टीम ने चंदन तस्कर वीरप्पन को ढेर किया था.

इसे भी पढ़ें :- CWC बैठक : नेताओं ने कहा- राहुल हों कांग्रेस अध्यक्ष या फिर कोई नहीं

अनुच्छेद 370 खत्म किए जाने के बाद जम्‍मू-कश्‍मीर का LG बनने की दौड़ में सबसे आगे हैं पूर्व आईपीएस विजय कुमार और दिनेश्‍वर शर्मा. तमिलनाडु कैडर के 1975 बैच के आईपीएस विजय कुमार अभी जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के सलाहकार हैं. जानकारी हो कि जम्मू-कश्मीर के केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद आईपीएस अफसर के. विजय कुमार राज्य के पहले उप राज्यपाल बन सकते हैं.

इसे भी पढ़ें :- बीजेपी विधायक के बिगड़े बोल, कहा- अब कोई भी गोरी-गोरी कश्मीरी लड़कियों से कर सकता है शादी

तमिलनाडु कैडर के 1975 बैच के आईपीएस विजय कुमार अभी जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के सलाहकार हैं. विजय कुमार बीएसएफ के आईजी के तौर पर भी कश्मीर घाटी में अपनी सेवाएं दे चुके हैं. इसके साथ ही उप राज्यपाल के लिए केंद्र सरकार के विशेष प्रतिनिधि दिनेश्वर शर्मा का नाम भी चल रहा है. दिनेश्वर शर्मा इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) के निदेशक रह चुके हैं.

जम्‍मू-कश्‍मीर का उपराज्‍यपाल बनने की दौड़ में आईपीएस अफसर दिनेश्‍वर शर्मा और विजय कुमार सबसे आगे हैं. विजय कुमार ने चंदन तस्कर वीरप्पन को किया था ढेर. आईपीएस अधिकारी के. विजय कुमार जंगलों में आतंकरोधी अभियान चलाने में माहिर माने जाते हैं.

इसे भी पढ़ें :- 25 हजार की रिश्वत लेते डॉक्टर को लोकायुक्त ने रंगे हाथ गिरफ्तार किया, इसलिए ले रहा था रिश्वत

2010 में छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सली हमले में सीआरपीएफ के 75 जवानों के शहीद होने के बाद विजय कुमार को सीआरपीएफ का महानिदेशक (डीजी) बनाया गया था. इसके बाद इलाके में नक्सली गतिविधियों में भारी कमी आई थी. कुमार की ही अगुआई में चंदन तस्कर वीरप्पन को मार गिराया गया था. कुमार अभी जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल के सलाहकार हैं. लंबे समय तक घाटी में अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

कोई जवाब दें