घटिया दर्जे के निमार्ण के चलते ताप्ती बैराज फूटा तो तबाही का जिम्मेदार कौन होगा!

0
114
Spread the love
 

TOC NEWS // बैतूल | 10-दिसम्बर-2017     

माँ सूर्यपुत्री ताप्ती जागृति समिति ने सीएम हेल्प लाइन में दर्ज कराई शिकायत

अमृत सिटी योजना के तहत 195 मीटर लम्बा बैराज लगभग 6 करोड़ की लागत से ग्राम ठेसका के पास ताप्ती नदी पर बन रहा है। बैतूल जिला मुख्यालय के शहरवासियों के लिए पेयजल का इंतजाम करने के लिए मुख्यालय से 22 किलोमीटर दूर ताप्ती नदी के बीच में बनने वाले बैराज के निमार्ण कार्य में बरती जा रही लापरवाही तथा घटिया दर्जे की निमार्ण सामग्री तथा गुणवत्ता के अभाव में नदी पर बनने वाले बैराज का भविष्य खतरे में पड़ गया है।

ताप्ती नदी पर बनने वाले बैराज के निमार्ण को लेकर माँ सूर्यपुत्री ताप्ती जागृति समिति की ओर से सीएम हेल्प लाइन में शिकायत दर्ज करते हुए आरोप लगाया है कि 6 करोड़ की लागत से बनने वाले बैराज के लिए नपा एवं विभागीय अधिकारियों की मौजूदगी के अभाव में ठेकेदार के कर्मचारी एवं सुपर वाइजरो से निमार्ण कार्य करवाया जा रहा है।

समिति के प्रदेश अध्यक्ष रामकिशोर पंवार ने नगर पालिका बैतूल में आरटीआई लगा कर निमार्ण एजेंसी से लेकर उसकी पूरी निमार्ण कार्य योजना की जानकारी मांगी है। समिति ने आरोप लगाया कि निमार्ण एजेंसी इस तथ्य को नजर अंदाज कर रही है कि मामूली सी बाढ़ में बैतूल परतवाड़ा रोड़ पर ताप्ती पर बना पूल कंपन करने लगता है।

ऐसी स्थिति में जब बैराज को ताप्ती के जल के साथ – साथ उसके वेग को भी रोकना पड़ेगा तब वह ताप्ती के वेग एवं ताप्ती नदी में बाढ़ एवं बहते जल के साथ बनने वाले भंवरो के प्रहार को कैसे रोक पाएगें। ताप्ती नदी के पानी के वेग के चलते चंदोरा बांध फूटने के बाद भारी तबाही एवं जनहानी हो चुकी है। पूर्व से पश्चिम की ओर बहने वाली बैतूल जिले की एक मात्र मैदाननी नदी ताप्ती ने अपने तेज वेग जल प्रवाह के चलते जिले में 250 किमी के प्रभाव क्षेत्र में सैकड़ो फीट गहरे डोह बना डाले है।

इसे भी पढ़ें :- दाऊद और उसकी डी-कंपनी इस करेंसी का इस्तेमाल कर बढ़ा रही है अपना ब्लैक मार्केट- कासकर ने किया खुलासा

इस नदी ने पहाड़ो का और मैदानो का जिलस ढंग से चीर हरण किया उसे देख कर यह नहीं लगता कि वर्तमान समय में जिस ढंगसे ताप्ती पर 195 मीटर लम्बे बैराज का निमार्ण किया जा रहा है वह बच पाएगा। ताप्ती नदी के किनारे पर बनाए गए इंटक वेल के निमार्ण कार्य में बरती गई जल्दबाजी के कारण इसके भविष्य पर सवाल उठने लगे है। बैतूल नगर के जल संकट को देख कर ताप्ती नदी के पानी से सप्लाई करने के लिए नपा से अमृत सिटी योजना के तहत 6 करोड़ का बैराज बनना है। पिछले साल जुलाई 2016 में इस प्रोजेक्ट के वर्क आर्डर हो गए थे। रायपुर की चंद्रा निर्माण कंपनी ने 7 महीने बाद जनवरी 2017 में काम शुरू किया। अभी बेस बनना शुरू ही हुआ था की बारिश आ गई और जुलाई 2017 में काम रुक गया था। अब पानी उतरने के बाद दोबारा तकनीकी विशेषज्ञ एवं जिम्मेदार अधिकारियों एवं नपा के इंजीनियरो की गैर मौजूदगी में निमार्ण काम शुरू किया जा रहा है जिसके चलते आशंका के बादल मण्डराने लगे है।

इसे भी पढ़ें :- योगी की पत्नी पर देशद्रोह का केस दर्ज, 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा जेल

वार्ड क्र.-30 अनुपम नगर में डाम्बरीकरण सड़क के लोकार्पण अवसर पर एमआईसी सदस्य श्री बारिश शुरू होने के बाद जुलाई में निर्माणाधीन बैराज का बेस पानी में डूब गया था। 12 एमएम की लोहे की सलाखें भी पानी में डूबकर बहाव के कारण मुड़ गई थीं। इस कारण उस समय काम रुक गया था। अब पानी कम होते ही काम शुरू किया गया है। 195 मीटर लंबाई के बैराज की दिवारो के लिए कालम खड़े किए जाने है उनकी जमीनी गहराई कम होने की वजह से कितना भी मजबूत बेस पानी के वेग के सामने टिक नहीं पाएगा। 9 मीटर की ऊंचाई वाले बैराज के लिए जमीन में कम से कम पांच से सातत मीटर के गहरे कालम खड़े किजाने थे जिसमें लोहे की राड़ो की लम्बाई एवं चौड़ाई भी मापदण्ड के अनुरूप नहीं है।

इसे भी पढ़ें :-  शादी के बाद ज़हीर खान की बीवी सागरिका ने कराया बेहद बोल्ड फोटोशूट, आपको भी हो जायेगा प्यार

इसे भी पढ़ें :- इस आदमी ने शिल्पा शिंदे को किया जबरदस्ती KISS, वीडियो हुआ वायरल

श्री पंवार ने अपनी शिकायत में इस बात को लेकर कई ज्वलंत सवाल उठाए है। नपा को 6 करोड़ के बैराज के लिए जल संसाधन विभाग तकनीक विशेषज्ञो की मदद तब तक लेनी थी जब तक निमार्ण कार्य पूरा न हो जाए। वर्तमान समय में जिस जगह निमार्ण कार्य किया जा रहा है वहां पर पत्थरो की सीला पर मात्र दो से तीन फीट गहरे कालम खड़े करके 9 मीटर की ऊंचाई वाले 195 मीटर लम्बे बैराज का निमार्ण किया जा रहा है जिसमें तल की क्षमता इतनी अधिक होगी की ताप्ती नदी के बहते जल की थपेड़े एवं लहरे बैराज का नामो निशान मिटा देगी।

श्री पंवार ने इस बारे में बैतूल विधायक हेमंत खण्डेलवाल को भी घटिया दर्जे के बैराज निमार्ण को लेकर अपनी शिकायत दर्ज की है। श्री पंवार ने कहा कि नपा एवं निमार्ण एजेंसी सौ रूपये के स्टाम्प पर लिखित वचनबद्ध शपथ पत्र प्रस्तुत करे कि यदि भविष्य में ताप्ती बैराज के चलते होने वाली किसी भी प्रकार की जनहानी एवं धनहानी के लिए वे जवाबदार रहेगें। श्री पंवार पूरे मामले को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं नगरीय निकाय मंत्री से भी चर्चा करने जाएगें।

इसे भी पढ़ें :- खुलेआम होता है देह व्यापार, रोकने के लिए क्यों नहीं उठाए कदम, HC में याचिका दायर

इसे भी पढ़ें :- पुलिस में भर्ती होने का सपना देख रहे युवाओं के लिए खुशखबरी, यहां 707 पदों पर निकली भर्ती

कोई जवाब दें