ग्राम पंचायतों का सुनियोजित विकास सुनिश्चित करें पंचायत प्रतिनिधि

0
315
Spread the love

भोपाल । त्रि-स्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों को प्रशिक्षण एवं क्षमतावर्धन कार्यशाला में सीखने और अपने अधिकारों को जानने का मौका मिला है। पंचायत पदाधिकारी अपने कर्त्तव्यों और अधिकारों को समझें और तदनुसार ग्राम पंचायतों का सुनियोजित विकास करें। पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री कमलेश्वर पटेल ने यह बात धार में त्रि-स्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों के प्रशिक्षण एवं क्षमतावर्धन कार्यशाला में कही।

श्री पटेल ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्री राजीव गाँधी ने पंचायत राज का सपना साकार किया था। प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री श्री दिग्विजय सिंह ने पंचायत राज लागू कर पंचायतों को अधिकार सम्पन्न बनाया था।

पंचायत प्रतिनिधियों का मानदेय बढ़ेगा

श्री पटेल ने कहा कि राज्य सरकार ने वचन-पत्र में पंचायत प्रतिनिधियों का मानदेय बढ़ाने का वादा किया है। इस वादे को पूरा करने की दिशा में शीघ्र कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि शासकीय धन का दुरुपयोग किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। योजनाओं का लाभ पात्र लोगों तक पहुँचाना सुनिश्चित किया जाये। उन्होंने कहा कि जय किसान फसल ऋण माफी योजना में पात्र लोगों को लाभ पहुँचाने में पंचायत पदाधिकारी अपना काम जिम्मेदारी से पूरा करें। श्री पटेल ने बताया कि राज्य सरकार गौ-शालाएँ खोलने जा रही है। इसका लाभ महिला स्व-सहायता समूहों को भी मिलेगा।

कार्यशाला में जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती मालती मोहन पटेल, विधायक सर्वश्री हीरालाल अलावा, श्री प्रताप ग्रेवाल और श्री पांचीलाल मेड़ा ने भी विचार व्यक्त किये। कार्यशाला में विभिन्न विषय-विशेषज्ञों ने विचार व्यक्त किये। इस दौरान संचालक, पंचायत श्रीमती उर्मिला शुक्ल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

टेक होम राशन फैक्ट्री का निरीक्षण

पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री पटेल ने धार जिले के ग्राम देलमी में 9 करोड़ 73 लाख 48 हजार रुपये लागत की टेक होम राशन फेक्ट्री के निर्माण कार्य का जायजा लिया। उन्होंने कहा कि समय-सीमा में कार्य पूरा करवायें। श्री पटेल ने महिला स्व-सहायता समूहों से चर्चा कर उनके द्वारा किये जा रहे कार्यों की जानकारी प्राप्त की।

कोई जवाब दें