गाडरवारा : खाद्यान्न जिला अधिकारी मौन दूषित सामग्री पर नहीं डाल रहे हैं निगाहें

0
130
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.com

ब्यूरो चीफ गाडरवारा  // अरुण श्रीवास्तव : 91316 56179

गाडरवारा—गाडरवारा शहर की होटलों बीकानेरों पर दूषित खाद सामग्री बेची जा रही है होटलों में खुले में खाद्य सामग्री रखे होने के कारण इन खाद्य सामग्रियों मैं सड़कों की धूल तथा मक्खियां भिनभिनाती रहती हैं,जिसका सेवन करने से लोगों की सेहत पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है इसके बाद भी जिम्मेदार अधिकारियों का इस ओर ध्यान नहीं है,गाडरवारा नगर मैं दुकान संचालक खुले में खाद्य सामग्री रखकर बेच रहे हैं।
इन्हें रोकने टोकने वाला कोई नहीं है ग्राहकों को लुभाने के लिए दुकान संचालक दुकान से बाहर रोड की तरफ खाद्य सामग्री बनाकर रख देते हैं,जिससे वाहनों के आवागमन से जो धूल उड़ती है वह उनकी बनी सामग्री पर जाकर लगती है वही धूल जमी सामग्री को दुकानदार ग्राहकों को दे देते है।वही देखा जाता है कि होटलों की नियमित सफाई ना होने के कारण वहां रखी खाद्य सामग्री पर मक्खियां भिनभिनाती नजर आती हैं लोगों का सार्वजनिक स्थलों पर आना जाना रहता है जैसे कि नए बस स्टैंड,पानी की टंकी, रेलवे स्टेशन, शासकीय सिविल अस्पताल, छीपा तिगड्डा ऐसे स्थानों में लगा रहता है।इसके चलते इन स्थानों पर होटले भी अधिक हैं इसके बावजूद खाद्यान्न प्रशासन के विभाग के अधिकारी कर्मचारियों ने अपनी आंखें बंद कर रखी हैं, लोगों का कहना है कि अधिकारी कर्मचारी सिर्फ अपनी वसूली से मतलब रखते हैं उन्होंने हर बड़े होटलो व बीकानेरों से हर महीना फिक्स कर रखा है यही वजह है,कि होटलों में बिकने वाली खाद्य सामग्रियों की शुद्धता व बीकानेरों में बिकने वाली मिठाइयों की शुद्धता के संबंध में कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है।

त्यौहार आते ही खाद्य विभाग के कर्मचारियों में रहता है सिर्फ दिखावा

खाद्यान्न प्रशासन विभाग के अधिकारी कर्मचारी सिर्फ त्योहारों के दिनों में ही सक्रिय रहते हैं,अब जबकि रक्षाबंधन का त्यौहार करीब आ रहा है तो उनकी सक्रियता भी स्वतः बढ जाएगी एक दो दुकानों में कार्यवाही कर विभाग के कर्मचारी यह साबित करने का प्रयास करने का प्रयास करेगे की वह अपने दायित्वों के निर्वाह के प्रति बहुत ही ईमानदार हैं,जबकि त्योहारों के नजदीक आते ही बीकानेरों व अन्य होटलों में मिलावटी सामग्री बेची जाती है।जिससे आम जनता के स्वास्थ्य पर बहुत खराब असर पड़ता है इतना सब देखने के बाद भी खाद्य प्रशासन विभाग के अधिकारी व कर्मचारी महीने के पैसे के चक्कर में आम जनता के स्वास्थ्य से खिलवाड़ कर रहे हैं,उच्च अधिकारियों से जन अपेक्षा है कि इस ओर अपना ध्यान आकर्षित करें जिससे आम जनता को परेशानी का सामना ना करना पड़े और आम जनता के स्वास्थ्य से खिलवाड़ ना हो सके।

कोई जवाब दें