गबन धोखाधड़ी के प्रकरणो में कड़ी वैधानिक कार्यवाही सुनिश्चित करे

0
101
Spread the love

जिला स्तरीय समिति की बैठक सम्पन्न 

सतना | जिला सहकारी कृषि और ग्रामीण विकास बैंक तथा सहकारिता केन्द्रीय सहकारी बैंक के अंर्तगत गबन धोखाधडी के प्रकरणो की समीक्षा हेतु गठित जिला स्तरीय समिति की बैठक में कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी नरेश पाल ने गबन धोखाधडी के प्रकरणो में कडी वैधानिक कार्यवाही के साथ ही लंबित प्रकरणो मे वसूली की कार्यवाही भी तीव्रगति से करने के निर्देश दिये है। इस मौके पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रामेश्वर यादव, महाप्रबंधक जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक ज्ञानेन्द्र पाण्डेय, ए.आर.सी.एस. श्री त्रिपाठी, एस.डी.एम. बलवीर रमन और सहकारिता विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

जिला स्तरीय बैठक में समिति स्तर पर गबन और घोटाले के वर्ष 2015-16 में प्रकाश मे आये प्रकरणो की जानकारी मे आरोपी कर्मचारियो के विरूद्ध अब तक की गई कार्यवाही की समीक्षा की गई। बैठक में बताया गया कि अमरपाटन समिति के अंर्तगत सहकारी समिति प्रबंधक अध्यक्ष शाखा प्रबंधक और बचत बैंक कैशियर ने फर्जी ऋण वितरण गेंहू खरीदी धान खरीदी की सार्टेज राशि सूखा राहत वितरण बचत बैंक अमानतदार की राशि का गबन करके 1 करोड 94 लाख 51 हजार का गबन किया है।

दोर्षी कर्मचारियो को पद से पृथक कर गबन की राशि वसूली हेतु सहकारी न्यायालय मे धारा 64 के तहत वाद दायर किया गया है। बाबूपुर समिति में समिति प्रबंधक द्वारा 1 करोड 44 लाख 13 हजार की गबन का मामला आया है जिसमें गबन राशि की वसूली के लिये न्यायालय संयुक्त पंजीयक सहकारी संस्था रीवा मे 58 बी एक के तहत सुनवाई जारी है। बाबूपुर समिति मे सहकारी प्रबंधक द्वारा 25 लाख 42 हजार बरा शाखा बिरसिंहपुर में 9 लाख 30 हजार देवरी समिति में 1 करोड 40 लाख 86 हजार और भंवर समिति में 1 करोड 60 लाख 24 हजार की राशि सहकारी समिति प्रबंधको द्वारा गबन करने का मामला प्रकाश मे आया था।

जिन पर वैधानिक कार्यवाही की जाकर वसूली की प्रक्रिया संपादित की जा रही है। जिला सहकारी कृषि और ग्रामीण विकास बैंक का ऋण अदा किये बिना 10 सदस्यो द्वारा अपनी आराजी अन्य बैंको मे बंधक रखकर दूसरे बैंक से ऋण प्राप्त कर लिया था। जिनके विरूद्ध एफ.आई.आर. दर्ज कराई गई है। बैंक का ऋण अदा किये बिना 15 सदस्यो द्वारा अपनी आराजी विक्रय कर दी गई थी। जिनमे से 2 सदस्यो द्वारा अपने ऋण की राशि जमा करा दी है शेष 13 सदस्यो के विरूद्ध पुलिस मे एफ.आई.आर. दर्ज करा दी गई है।

कोई जवाब दें