खरगोन:मुंह पर कपड़ा रख 14 साल के बालक के अपहरण का प्रयास, सिर में गेंद मार चंगुल से छूटा

0
267
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 9893221036

समर कैंप के दाैरान सीखे आत्मरक्षा के गुर ने यश पिता विशाल अग्रवाल काे बचा लिया। 14 वर्षीय यश काे दाे युवकाें ने शुक्रवार शाम बाइक पर बिठाकर अगवा करने का प्रयास किया लेकिन उसने जेब में रखी प्लास्टिक की गेंद से बाइक चालक पर कुछ इस तरह प्रहार किया कि उसे छाेड़कर भागने पर मजबूर कर दिया। ये गुर उसने गर्मी के दिनाें में एक प्रशिक्षण शिविर मेें अपने काेच से सीखे थे।

दरअसल अपहरणकर्ताओं ने यश काे पार्सल लेने के बहाने बार-बार लाेकेशन बदलकर घर से दाे किलाेमीटर दूर बुलाया और फिर अगवा करने लगे। उनके चुंगल से छूटकर वह सीधे घर आया और परिजन के साथ थाने पहुंचकर पुलिस काे सारी कहानी बयां की। पुलिस का कहना है कि आवेदन मिला है। लोकेशन ट्रेस की जा रही है। जल्द आरोपी पकड़े जाएंगे।

अनाज व्यवसायी के बहादुर बेटे के अपहरण की कहानी उसी की जुबानी

हमने ऑनलाइन कुछ सामान बुलवाया था। शाम 6.17 बजे 9752701999 से फोन आया कि पार्सल आया है। मैंने घर पर आने को कहा तो डिलेवरी ब्वॉय ने बाइक पंक्चर होने से लेट हो जाने की बात कही। साथ ही कहा 7.30 बजे कॉल करूंगा। पार्सल लेने बस स्टैंड पर ही आ जाना। इसके बाद 7.37 बजे कॉल कर सोनी कॉलोनी आने की बात कही।

मैं स्कूटर लेकर घर से निकला और सोनी कॉलोनी पहुंचा तो 7.48 बजे पर फोन कर सनावद रोड स्थित एक निजी स्कूल तक आने को कहा। फिर 7.58 बजे एक अन्य स्कूल तक आने और रेड टी शर्ट पहने युवक के खड़े होने की जानकारी दी। 8.01 बजे मैं वहां पहुंचा ताे रुकने काे बाेला। दो मिनट बाद फिर आगे आने को कहा। निजी स्कूल से 100 मीटर दूर जाने पर दो युवक मिले।

उन्हाेंने पार्सल देकर मेरे चेहरे से मास्क हटाया। एक ने बाइक स्टार्ट की और दूसरे ने रुमाल से मुंह दबाकर बैठाने की कोशिश की। तभी मुझे मेरे गुरु द्वारा दिए गए आत्मरक्षा गुर का ख्याल आया और मेरे जेब में रखी प्लास्टिक की भारी गेंद से मैंने प्रहार कर दिया। तभी बाइक सवार मुझे छाेड़कर भाग निकले। (जैसा यश ने पुलिस को बताया)

हरिप्रसाद पाल एएसआई जांच कर रहे हैं आवेदन मिला है। लोकेशन ट्रेस की जा रही है। जल्द आरोपी पकड़े जाएंगे।

यश ने बताया बाइक पर बैठाने के दौरान जेब में रखी प्लास्टिक की गेंद निकालकर चालक को सिर में मारी तो वह भाग निकले। उसे हाथ व गले में नाखून लगे है। उनके चंगुल से छूटकर सीधे थाने पहुंचा। पुलिस ने परिवार को सूचना दी। परिवार के अनुसार वे पहले भी ऑनलाइन सामान बुलवा चुके है।

समर कैंप में सीखा था

यश ने बताया समर कैंप में आत्मरक्षा के गुर भी भी सीखने गया था। इस दौरान शिक्षकों ने आत्मरक्षा के संबंध में भी गुर सिखाए। संकट के समय में मुझे वह याद आए। आत्मरक्षा के लिए गेंद से प्रहार किया।

कोई जवाब दें