कांग्रेस-जेडीएस में बीजेपी का खौफ बरकरार, विधायकों को बेंगलुरू के बाहर एक रिजॉर्ट में रखा

0
141
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने शनिवार को विधानसभा में शक्ति परीक्षण से ठीक पहले इस्तीफा देकर सबको चौंका दिया। उनके इस निर्णय के बाद जनता दल (सेक्युलर) और कांग्रेस ने गठबंधन की सरकार का रास्ता साफ हो गया है।

जेडीएस नेता कुमारस्वामी बुधवार को मुख्यमंत्री पद की शपद लेने के 24 घंटे के भीतर ही सदन में बहुमत साबित करने की योजना बना रहे हैं। वहीं कांग्रेस अपने सभी विधायकों को अब भी बेंगलुरू के बाहर स्थित रिजॉर्ट में ही रखे हुई है। कुमारस्वामी का शपथग्रहण समारोह पहले सोमवार को होना था, लेकिन उस दिन राजीव गांधी की 27वीं पुण्यतिथि होने के कारण जेडीएस ने इसे बुधवार तक टाल दिया है।
इससे पहले कुमारस्वामी ने शनिवार शाम राज्यपाल वजुभाई वाला से मुलाकात की और सरकार बनाने का दावा पेश किया। वह सोमवार को दिल्ली जाएंगे। जहां वे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस चेयरपर्सन सोनिया गांधी से मुलाकात करेंगे।

कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन ने 117 विधायकों के समर्थन का दावा किया है, कर्नाटक विधानसभा की 224 सीटों में से 222 सीटों पर चुनाव हुआ है। वहीं दो विधानसभाओं पर अभी चुनाव होने बाकी हैं। उधर जेडीएस नेता कुमारस्वामी ने दो सीटों से चुनाव लड़ा था। इसलिए उन्हें एक सीट छोड़नी पड़ेगी।

बेंगलुरू के बाहर एक रिजॉर्ट में रुके हैं कांग्रेस के विधायक

कर्नाटक में एक हफ्ते के अंतराल के बाद कुमारस्वामी राज्य के दूसरे मुख्यमंत्री होंगे। शनिवार को येदियुरप्पा की ढाई दिन की सरकरा गिर गई थी। उन्होंने शक्ति परीक्षण से पहले इस्तीफा दे दिया। वहीं बीजेपी की ओर से विधायकों को रिश्वत देने की बात सामने आने के बाद से ही कांग्रेस अपुने विधायकों को बेंगलुरू के बाहर एक रिजॉर्ट में रखा हुआ है, वहीं जेडीएस के विधायक भी बेंगलुरू के ही दूसरे होटल में ठहरे हुए हैं।

वही दूसरी ओर बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने खरीदफरोख्त के इन आरोपों को बेबुनियाद करार देते हुए दावा किया कि यह गठबंधन एक ही साल चलेगा।

कोई जवाब दें