एसडीएम ने कहा डाक्टर के पास जाने और दवा लेने जाने के अलावा भी बनाओ कोई बहाना

0
215
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

ब्यूरो चीफ मुलताई, जिला बैतूल 

हाथों में रसीद लेकर बेवजह घूमने वालों का एसडीएम ने खुद काटा चालान

मुलताई। जब भी कभी लाक डाऊन के दौरान बेवजह घूमने वालों का चालान काटा जाता है तो अधिकांश लोगों द्वारा बनाए जाने वाले बहाने में कहीं डाक्टर के पास जाने तो कहीं दवा लेने जाने का ही बहाना प्रमुख होता है। रविवार जब सूरजमल स्मृति तिराहे पर एसडीएम सीएल चनाप सहित प्रशासनिक अमले ने मुख्य मार्ग से आवागमन करने वालों का चालान काटना चालू किया तो फिर वही बहाने चालू हो गए। 

जिससे झुंझलाकर एसडीएम चनाप ने कहा कि इसके अलावा भी कोई बहाना बनाओ। उन्होने स्वयं हाथों में रसीद लेकर बेवजह घूमने वालों के चालान काटे तथा लगभग साढ़े तीन हजार रूपए की वसूली मौके पर ही की। लाक डाऊन में आवागमन के प्रतिबंध के बावजूद रविवार सुबह से ही वाहनों का आवागमन बदस्तूर जारी था। इसकी सूचना मिलते ही एसडीएम चनाप ने सूरजमल स्मृति तिराहे पर पहुंचकर चालान काटना प्रारंभ कर दिया, इस दौरान उन्होने अपने हाथों में रसीद लेकर खुद वसूली की जिससे अधिकांश लोग चुपचाप चालान की राशि देकर चलते बने।

कार्यवाही नही होने से नियमों का हो रहा था उल्लंघन 

शनिवार से क्षेत्र में लाक डाऊन घोषित किया गया है जिसमें इस बार वाहनों की आवाजाही पर भी प्रतिबंध लगाया गया है लेकिन शनिवार भी पूरे दिन वाहनों की आवाजाही बनी रही। रविवार सुबह से ही फिर वाहनों की आवाजाही शुरू हुई जिसमें लोग ट्रिपल सीट भी आवागमन कर रहे थे। हालांकि इस बारे में प्रशासन द्वारा पूर्व से लोगों को सचेत किया जा रहा था लेकिन शनिवार कोई कार्यवाही नही होने से लोगों ने नियमों का उल्लंघन रविवार भी जारी रखा। रविवार दोपहर कार्यवाही के बाद  लोगो में हड़कंप मच गया तथा इसके बाद फिर वाहनों की आवाजाही कम हो गई।

लाकडाऊन के बावजूद कामथ में खुली थी दुकानें

इधर लाक डाऊन के बावजूद शनिवार शाम छिन्दवाड़ा मार्ग पर कामथ में कुछ दुकानें खुली हुई थी जिसमें दुकानदारों द्वारा व्यवसाय किया जा रहा था। सूचना मिलते ही एसडीएम चनाप सहित प्रशासनिक अमले ने मौके पर पहुंचकर दुकानदार से जुर्माना वसूला तथा दुकान बंद कराई गई। एसडीएम चनाप ने बताया कि कामथ में स्थित हार्डवेयर दुकान लाक डाऊन के बावजूद खुली रहने से दुकानदार से एक हजार रूपए जुर्माना वसूलकर दुकान बंद कराई गई साथ ही लाक डाऊन के दौरान दुकान नही खोलने की चेतावनी भी दी गई।

कोई जवाब दें