ई-टेंडर घोटाले में आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ (EOW) ने एंट्रस कंपनी के वाइस प्रेसीडेंट को गिरफ्तार किया

0
496
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

भोपाल। मध्यप्रदेश में हजारों करोड़ के ई-टेंडर घोटाले में आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ (ईओडब्ल्यू) ने गुरुवार को एंट्रस सिस्टम्स लिमिटेड कंपनी के वाइस प्रेसीडेंट मनोहर एमएन को गिरफ्तार किया है। मनोहर की गिरफ्तारी से घोटाले के संदर्भ में कई खुलासे होने की संभावना है। ईओडब्ल्यू घोटाले को लेकर एंट्रस कंपनी के अन्य अधिकारियों और कर्मचारियों से अभी पूछताछ भी कर रहा है।

ईओडब्ल्यू द्वारा एक अधिकृत जानकारी में बताया गया है कि मनोहर की मप्र इलेक्ट्रानिक विकास निगम के आरोपित विनय चौधरी एवं वरुण चतुर्वेदी, ऑस्मो आईटी सॉल्यूशन लिमिटेड के साथ अपराध में संलिप्तता पाई जाने के बाद ही गिरफ्तारी की गई है। मामले की छानबीन में जुटे अधिकारियों का कहना है कि एंट्रस सिस्टम लिमिटेड कंपनी को मप्र ई-प्रिक्योरेमेंट पोर्टल के डाटा को सुरक्षित नहीं रखने और गोपनीयता भंग करने का दोषी पाया गया है।

E- टेंडर घोटाले पर बोले शिवराज सिंह जांच के लिए पूरी तरह से तैयार : शिवराज सिंह चौहान

आरोपी कंपनी ने चौधरी और चतुर्वेदी को ई-प्रिक्योरेमेंट पोर्टल की यूजर आईडी एवं पासवर्ड की जानकारी दी थी। इन आरोपियों ने मप्र इलेक्ट्रानिक विकास निगम के ई-प्रिक्योरमेंट पोर्टल में विभिन्ना विभागों के कई ई-टेंडर्स की बिड राशि में हेरा-फेरी कर हजारों करोड़ रुपए का घोटाला करने के लिए उक्त यूजर आईडी एवं पासवर्ड का दुरुपयोग किया।

मामले में ईओडब्ल्यू ने धारा 120 बी, 420, 468, 471 एवं आईटी एक्ट 2000 की धारा 66 एवं भ्रष्टाचार अधिनियम की धारा 7 सहपठित धारा(2) के तहत प्रकरण दर्ज कर छानबीन शुरू की है। बताया जाता है कि पोर्टल के सर्वर का मेंटेनेंस, नेटवर्किंग और हेल्प डेस्क सहित ज्यादातर काम एंट्रस के पास था। अधिकारियों के पास इनके लॉगइन, पासवर्ड और सिग्नेचर होने के बारे में अभी पूछताछ चल रही है।

कोई जवाब दें